Sunday, May 22, 2022
-->
samyukta-samaj-morcha-alliance-with-chadhuni-faction-for-punjab-elections-rkdsnt

पंजाब विस चुनाव के लिए संयुक्त समाज मोर्चा का चढूनी गुट के साथ गठबंधन 

  • Updated on 1/17/2022

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। संयुक्त समाज मोर्चा ने पंजाब में 20 फरवरी को होने वाले राज्य विधानसभा चुनाव के लिए गुरनाम सिंह चढूनी के नेतृत्व वाले राजनीतिक संगठन के साथ गठबंधन की सोमवार को घोषणा की। संयुक्त समाज मोर्चा (एसएसएम) ने विधानसभा चुनाव के लिए 20 और उम्मीदवारों की भी घोषणा की। बलबीर सिंह राजेवाल के नेतृत्व वाला संयुक्त समाज मोर्चा (एसएसएम) उन किसान संघों का एक राजनीतिक मोर्चा है, जिन्होंने केंद्र के कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलन में हिस्सा लिया था। 

अखिलेश बोले- डॉ. राधा मोहन अग्रवाल चाहें तो सपा उन्हें फौरन उम्मीदवार बना देगी

 

चढूनी हरियाणा स्थित भारतीय किसान यूनियन (चढूनी) के प्रमुख हैं और पहले उन्होंने चुनाव लडऩे के लिए संयुक्त संघर्ष पार्टी (एसएसपी) का गठन किया था। एसएसएम ने चढूनी के नेतृत्व वाली पार्टी को 10 सीटें दी हैं। यह पेशकश चुनाव के लिए केवल नौ सीटों की पेशकश के लिए एसएसएम के खिलाफ चढूनी की नाराजगी के एक दिन बाद की गई। 

चन्नी के भाई को टिकट नहीं मिलने को लेकर AAP ने कांग्रेस पर बोला हमला

एसएसएम के संसदीय बोर्ड के सदस्य प्रेम सिंह भंगू ने कहा कि एसएसपी के साथ एक गठबंधन किया गया है, चढूनी के नेतृत्व वाली पार्टी को 10 सीटें दी गई हैं। भंगू ने कहा, ‘‘हम एक साझा चुनाव चिह्न पर चुनाव लडऩे और एक संयुक्त प्रचार अभियान चलाने की कोशिश कर रहे हैं।’’ पार्टी ने फिरोजपुर शहर से लखविंदर सिंह, नवांशहर से कुलदीप सिंह वजीरपुर, बटाला से बलविंदर सिंह, लुधियाना (पश्चिम) से तरुण बावा जैन, आत्म नगर से हरकीरत सिंह को टिकट दिया है। एसएसएम ने इससे पहले 10 उम्मीदवारों की घोषणा की थी। 

उप्र विस चुनाव : AAP ने जारी की 150 उम्मीदवारों की पहली लिस्ट, OBC पर खेला दांव

चढूनी गुट के किसान नेता रचपाल सिंह ने कहा कि वे जल्द ही समाना, अजनाला, नाभा, फतेहगढ़ साहिब, भोलाथ, गुरदासपुर, संगरूर, शाहकोट, दाखा और दिरबा की 10 विधानसभा सीटों पर अपने उम्मीदवारों का फैसला करेंगे। पंजाब की 117 विधानसभा सीटों के लिए 20 फरवरी को मतदान होना है और मतगणना 10 मार्च को होगी। 

उत्तराखंड चुनाव से पहले भाजपा में खलबली, कैबिनेट मंत्री हरक सिंह रावत निष्कासित

comments

.
.
.
.
.