Wednesday, Apr 08, 2020
sanjay nirupam maharashtra assembly elections 2019 maharashtra politics news congress

नाराज संजय निरुपम ने कहा- पार्टी में मेरे खिलाफ हो रही साजिश, छोड़ दूंगा कांग्रेस!

  • Updated on 10/4/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। महराष्ट्र (Maharashtra ) विधानसभा चुनाव में कांग्रेस पार्टी (Congress Party) के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष संजय निरुपम (Sanjay Nirupam) ने पार्टी के चुनावी कैंपन से खुद को अलग कर पार्टी की मुश्किलें बड़ा दी हैं। उन्होंने पार्टी पर तंज कसते हुए कहा कि कुछ सीटों को छोड़कर वाकी सीटों पर जमानत जब्त होना तय है। कांग्रेस के दिग्गज नेता संजय निरुपम ने साफ कर दिया है कि में पार्टी नहीं छोड़ रहा हूँ। अगर इस तरह की चीजें चलती रहीं तब जरूर पार्टी में लबें समय तक ना रह सकूं। फिलहाल में चुनाव प्रचार का  हिस्सा नहीं हूं। 

महाराष्ट्र चुनाव: BJP की फाइनल लिस्ट से तावड़े- मेहता का कटा पत्ता, खडसे की बेटी को टिकट

हालही में प्रेस कॉन्फ्रेंस कर सजंय निरुपम ने कांग्रेस पार्टी को गलतियों का मॉडल करार दिया था। उनका कहना हैं कि कांग्रेस पार्टी ने लोगों के हुनर और प्रतिभा को दर किनार कर लोगों के आत्मसम्मान को ठेस पहुंचाई है। उन्होंने कहा ऐसा प्रतीत होता है कि कांग्रेस को संघर्षील लोगों की जरूरत ही नहीं है। उन्होंने पूरे विश्वास के साथ इस बात को कहा की अगर तीन चार सीटों को छोड़ दिया जाए तो बाकी सीटों पर पार्टी की जमानत जब्त हो जाएगी। 

शशि थरूर का अमेरिका को करारा जबाव, कहा-कश्मीर पर तीसरे पक्ष की मध्यस्थता स्वीकार नहीं

दरअसल ये पूरा मामला महारष्ट्र विधानसभा चुनाव के लिए हुए टिकट बंटवारे को लेकर उस समय सामने आया जब पार्टी में मुंबई के पूर्व प्रमुख संजय निरुपम को लगने लगा की पार्टी को अब उनकी जरूरत नहीं है। मामले ने तब तूल पकड़ लिया जब उन्होंने मुंबई की वर्सोवा विधानसभा सीट के लिए अपने किसी नजदीकी के लिए  टिकट मांगा और पार्टी ने उनकी इस मांग को ठुकरा दिया।  

राहुल गांधी हरियाणा और महाराष्ट्र में 10 अक्टूबर को करेंगे रोड-शो

निरुपम ने कहा, "मैं मुंबई कांग्रेस का अध्यक्ष और सांसद रहा हूं। मैंने सिर्फ एक सीट के लिए आग्रह किया था। फिर मेरी नहीं सुनी गई। ऐसा क्यों है? उन्होंने कहा, ''ऐसा लगता है कि पार्टी को मेरी सेवा की जरूरत नहीं है। इसलिए मैंने निर्णय किया है कि प्रचार से दूर रहूंगा।" उन्होने खुद को पार्टी से अलग करने वाली बात पर कहा की फिलहाल वो पार्टी से अलग नहीं हैं। इससे पहले के एक ट्वीट में निरुपम ने पार्टी द्वारा खुद को अनदेखा किए जानी वाली बात पर धु:ख व्यक्त कर कहा वह दिन दूर नहीं जब वो पार्टी को अलविदा कह देंगे। 

नेतृत्व में बदलाव के बाद भी बिखर रहा कांग्रेस का कुनबा, जानिए क्यों है पार्टी में कलह

उन्होंने पार्टी की कार्यप्रणाली पर दुख व्यक्त करते हुए कहा ''ऐसा प्रतीत होता है पार्टी मेरी सेवाएं अब और नहीं चाहती। मैंने विधानसभा चुनाव के लिए मुंबई में सिर्फ एक नाम सुझाया था। सुना है कि इसे भी खारिज कर दिया गया है। जैसा कि मैं पार्टी नेतृत्व को पूर्व में बता चुका था, ऐसी स्थिति में मैं चुनाव प्रचार में भाग नहीं लूंगा। यह मेरा अंतिम फैसला है।"

 

comments

.
.
.
.
.