गंगा की निर्मलता के लिए अनशन कर रहे संत गोपाल दास दून अस्पताल से गायब

  • Updated on 12/6/2018

देहरादून/ब्यूरो। गंगा की निर्मलता के लिए पौने पांच से साल से अनशन कर रहे संत गोपाल दास बुधवार देर शाम दून अस्पताल से अचानक गायब हो गए हैं। उनके गायब होने से दून अस्पताल प्रशासन और पुलिस प्रशासन के हाथ-पांव फूल गए हैैं। बताया जाता है कि उन्हें देहरादून डीएम के आदेश पर मंगलवार रात करीब साढ़े १२ बजे ऋषिकेश एम्स से दून अस्पताल में भर्ती किया गया था। 

बुधवार दोपहर को मीडिया से संत गोपाल दास ने कहा कि वह बीती रात को ऋषिकेश एम्स में भर्ती थे लेकिन बुधवार को उन्हें होश आया तो वह दून अस्पताल कैसे पहुंचे उन्हें नहीं मालूम। दून से अचानक संत के गायब होने से दून अस्पताल प्रशासन और पुलिस प्रशासन पर सवालिया निशान लग रहे हैं। दून अस्पताल में पुलिस चौकी होने के बावजूद अस्पताल से संत को नहीं रोका जा सका। 

फर्जी रजिस्ट्री कराकर मंदिर तोड़ बनाने जा रहे आलीशान होटल

संत के गायक होने के बाद एसपी सिटी प्रदीप राय, सीओ सिटी चंद्रमोहन और एलआईयू का दस्ता मौके पर पहुंचा। संत को तलाशने के प्रसास में जुटे हुए हैं। उधर, दून के अस्पताल के चिकित्सा अधिक्षक केके टम्टा ने बताया कि संत दून के गायब होने में अस्पताल प्रशासन का कोई रोल नहीं है। पुलिस के दो कांस्टेबल सादी वर्दी में उनके साथ मौजूद थे। कोई लघुशंका के बाहने गायब हो जाता है, अस्पताल प्रशासन क्या कर सकता है।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.