Wednesday, Jun 29, 2022
-->
satyarthi foundation expressed concern over budget cuts on schemes related to children

बच्चों से संबंधित योजनाओं पर बजट कटौती पर सत्यार्थी फाउंडेशन ने चिंता जताई

  • Updated on 2/1/2022

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। कैलाश सत्यार्थी चिल्ड्रेन्स फाउंडेशन (केएससीएफ) ने केंद्र सरकार द्वारा वित्त वर्ष 2022-23 के बजट में बच्चों से संबंधित विभिन्न कार्यक्रमों और योजनाओं के मद में कटौती करने पर चिंता जाहिर की है। पिछले बजट में बच्चों के मद में कुल बजट का 2.46 फीसद धन आवंटित किया गया था। जबकि वित्त वर्ष 2022-23 में यह घटकर 2.35 फीसद रह गया है। यह सन 2008 से बाल अधिकारों के मद में आवंटित की जा रही अभी तक की सबसे कम धनराशि है।

नर्सरी दाखिला : 8-10 स्कूल ड्रॉ ऑफ लॉट्स के बाद मांग रहे अभिभावकों से फीस

एनसीएलपी बजट में की गई 75 फीसद कमी
वित्त वर्ष 2022-23 में एनसीएलपी के लिए आवंटित बजट में 75 प्रतिशत की कमी की गई। यह राशि 30 करोड़ रुपए है, जोकि वित्त वर्ष 2021-22 के लिए यह 120 करोड़ रुपए थी। इतनी कम धनराशि के बजटीय आवंटन से मौजूदा संस्थानों को भी कार्य करने में कठिनाई का सामना करना पड़ेगा। समाज के हाशिए पर रहने वाले गरीब लोगों की आमदनी में कमी होने से उनके बच्चों को बाल श्रम, ट्रैफिकिंग, शोषण, यौन दुर्व्यवहार, अपमान और अन्याय का सामना करना पड़ रहा है।

10वीं-12वीं टर्म-1 रिजल्ट तैयार करने की प्रक्रिया में है बोर्ड : परीक्षा नियंत्रक

महिला एवं बाल विकास में भी बजट घटाया गया 
जिसे देखते हुए केंद्रीय बजट में बच्चों के हित में धनराशि बढ़ाए जाने की उम्मीद थी। फाउंडेशन ने महिला और बाल विकास मंत्रालय के बजट आवंटन पर भी चिंता जाहिर करता है, जिसमें पिछले वित्तीय साल के मुकाबले 8 प्रतिशत की कमी की गई है। जो वर्ष 2020-21 के 20,401 करोड़ रुपए से घटकर 2022-23 में 18,859 करोड़ रुपए हो गया है।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.