Tuesday, Dec 06, 2022
-->
Satyendra Jain AAP said Mask has to be considered as vaccine against Corona virus rkdsnt

सत्येंद्र जैन बोले- कोरोना के खिलाफ फिलहाल मास्क को ही ‘टीका’ मानना होगा

  • Updated on 10/30/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। दिल्ली में पिछले दो दिनों से कोविड-19 के मामलों में रिकॉर्ड बढ़ोतरी के बीच स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने मास्क पहनने के महत्व पर जोर दिया। उन्होंने कहा कि वायरस का टीका उपलब्ध होने तक लोगों को मास्क को ही ‘टीका’ समझना चाहिए। मंत्री ने कहा कि अगर हर कोई मास्क पहने तो कुछ हद तक वायरस के प्रसार को रोका जा सकता है । लॉकडाउन की तुलना में मास्क पहनने के ज्यादा फायदे हैं। 

 अमिताभ के शो 'कौन बनेगा करोड़पति' में छाया केजरीवाल का दिल्ली मॉडल, AAP उत्साहित

दिल्ली में पिछले दो दिनों में संक्रमण के 5,000 से ज्यादा मामले आए हैं। बुधवार को संक्रमण के 5673 और बृहस्पतिवार को 5739 मामले आए।जैन ने पीटीआई-भाषा से कहा, ‘‘लोगों को टीका उपलब्ध होने तक मास्क को ही टीका मानना चाहिए। अगर हर कोई मास्क पहने तो वायरस के प्रसार को बहुत हद तक रोका जा सकता है । लॉकडाउन की तुलना में मास्क के ज्यादा फायदे हैं।’’ 

‘मिर्जापुर 2’ के खिलाफ हिंदी लेखक ने कानूनी कार्रवाई की दी चेतावनी

दिल्ली सरकार ने और सघन तरीके से संपर्क का पता लगाने के संबंध में एक नयी रणनीति बनायी है और शहर में संक्रमण के मामलों में तेज वृद्धि के लिए जांच बढ़ाने को भी एक वजह बताया है। हालांकि, केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने मामलों में बढोतरी के लिए त्योहार के दौरान लोगों के घरों से बाहर निकलने, ज्यादा मेल जोल और वायु गुणवत्ता खराब होने को जिम्मेदार ठहराया है। 

मोदी सरकार ने लगाया महंगाई का तड़का, एथनॉल की कीमतें भी बढ़ीं

दिल्ली में संक्रमण दर भी बृहस्पतिवार को 9.55 प्रतिशत दर्ज किया गया और संक्रमितों की कुल संख्या 3.75 लाख हो गयी। शहर में 30,952 मरीजों का उपचार चल रहा है। राष्ट्रीय राजधानी में बृहस्पतिवार को कोरोना वायरस से 27 और लोगों की मौतें होने से मरने वालों की संख्या बढ़कर 6,423 हो गयी है। 

दिल्ली में सार्वजनिक बसों में अब भर सकेंगी सभी सीटें
उपराज्यपाल अनिल बैजल ने यहां कोविड-19 के मामलों में वृद्धि के बावजूद बसों में सभी सीटों पर यात्रियों को बिठाने के दिल्ली सरकार के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है। कोरोना वायरस महामारी के चलते फिलहाल बसों में फिलहाल 20 सवारियों को ही चढऩे की इजाजत थी। 

शापूरजी पालोनजी ग्रुप ने टाटा से अलग होने का प्लान सुप्रीम कोर्ट को सौंपा

एक वरिष्ठ सरकारी अधिकारी ने बताया कि दिल्ली आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (डीडीएमए) के अध्यक्ष बैजल ने अंतर-राज्यीय बस सेवाएं बहाल करने की भी मंजूरी दे दी और उसके लिए मानक संचालन प्रक्रिया की योजना पर काम चल रहा है एवं अगले सप्ताह से इस सेवा के बहाल होने की संभावना है।  

चुनाव आयोग ने कमलनाथ का नाम स्टार प्रचारकों से हटाया

प्राधिकरण की 23 अक्टूबर को एक बैठक में डीटीसी और क्लस्टर बसों में यात्रियों की संख्या बढ़ाने का मुद्दा उठाया गया था। परिवहन मंत्री कैलाश गहलोत ने मांग की थी कि बसों में पूरी सीटें भरी हो परंतु किसी को खड़े होकर सफर करने की इजाजत न हो। डीटीसी और क्लस्टर बसों में 40-45 सीटें होती हैं। बसों में कम यात्रियों को चढऩे की इजाजत की वजह से स्टैंडों पर बड़ी भीड़ हेाती है। 

 

 

यहां पढ़ें कोरोना से जुड़ी महत्वपूर्ण खबरें...

comments

.
.
.
.
.