Thursday, Mar 04, 2021
-->
saudi arabian princess pleads from prison save me i may die prsgnt

सऊदी अरब की राजकुमारी ने जेल से लगाई गुहार “मुझे बचाओ, मेरी मौत हो सकती है”

  • Updated on 4/20/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। समाजसेवी और महिलाओं के हक में आवाज उठाने वाली सऊदी अरब की राजकुमारी बस्मा बिंते सऊद जेल में कैद हैं। उन्होंने जेल से ही अब खुद रिहाई की गुहार लगाई है।

इस बारे में उन्होंने अपने ट्विटर अकाउंट से ट्वीट कर कहा है कि उनकी तबीयत खराब है और जेल में मेडिकल की कोई सुविधा नहीं है। अगर उन्हें मेडिकल सुविधा नहीं मिली तो उनकी मौत हो सकती है। हालांकि उनके ट्वीट अब डिलीट किए जा चुके हैं।

स्विट्जरलैंड की सबसे ऊंची चोटी आल्प्स पर्वत पर भारत का तिरंगा देख कर पीएम मोदी ने कही ये बात...

लगाई मदद की गुहार
अपनी रिहाई के लिए राजकुमारी बस्मा ने किंग सलमान बिन अब्दुल अजीज और क्राउन प्रिंस मुहम्मद बिन सलमान से गुजारिश की है। बस्मा किंग सलमान की भतीजी हैं और क्राउन प्रिंस उनके चचेरे भाई है। बस्मा सऊदी देश के संस्थापक की पोती हैं। 56 साल की राजकुमारी बस्मा शाह सऊद की सबसे छोटी बेटी हैं जो 1953 से 1964 तक सऊदी अरब के शासक हुआ करते थे।

एक सनकी राजा जो लंबे सैनिकों की दीवानगी के चलते इतिहास में याद किया जाता है

पहले हुई थीं लापता
बताया जाता है कि राजकुमारी 2019 की शुरुआत से ही लापता थीं। खबरों की माने तो उन्हें फरवरी 2019 में गिरफ्तार कर लिया गया था। इस बारे में भी उन्होंने 16 अप्रैल को ट्वीट कर दावा किया था कि उन्हें बिना किसी कारण जेल में कैद कर दिया गया है।

बस्मा ने इस बार भी किंग सलमान और क्राउन प्रिंस मुहम्मद बिन सलमान से मदद करने के लिए कहा था। उन्होंने कहा था कि मेरे केस की समीक्षा करें, यदि मैंने कोई गलती नहीं की है तो मुझे जेल से रिहा किया जाए। बता दें, बस्मा अपनी बेटी के साथ जेल में कैद हैं।

अमेरिका में फंसे भारतीय प्रोफेशनल्स की नौकरी से टला खतरा, H1B वीजा एक्सटेंशन कराने की अवधि बढ़ी

महिला अधिकारों के लिए लड़ती हैं राजकुमारी
पेशे से मानवाधिकार वकील और हाउस ऑफ सऊद की सदस्य बस्मा महिलाओं के अधिकारों और उनके हकों के लिए लड़ती रही है, आवाज उठाती रही है। सऊदी में जहां महिलाएं अपने लिए बात करने से डरती हैं वहीँ बस्मा महिलाओं के लिए आवाज उठाती रही है। उन्होंने हमेशा सऊदी अरब में परिवर्तन लाने की बात की है।

इतना ही नहीं, उन्होंने 2018 में यमन युद्ध की कड़ी आलोचना भी की थी और युद्ध को खत्म करने की अपील भी की थी। जबकि उनके भाई इस युद्ध के समर्थक रहे हैं।

comments

.
.
.
.
.