Thursday, Nov 14, 2019
Saung and Jamrani dam meating

सौंग और जमरानी बांध पर उम्मीद जगी, 11 जलुाई को होगा पीएमओ व उत्तराखंड के अधिकारियों की संयुक्त बैठक

  • Updated on 7/8/2019

 देहरादून/ब्यूरो। आगामी 11  जुलाई को प्रधानमंत्री कार्यालय में सौंग बांध और जमरानी बांध को लेकर बैठक बुलाई गई है। इसमें पीएमओ व उत्तराखंड शासन के अधिकारी भाग लेंगे। सौंग बांध और जमरानी दोनों ही बांध मुख्यमंत्री की सर्वोच्च प्राथमिकताओं में हैं। नीति आयोग की गवर्निंग बाडी की बैठक में भी इस मामले को पुरजोर तरीके से उठाया गया था।

मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत स्वयं इनके लिए आवश्यक औपचारिकताओं को पूरा करने की प्रक्रियाओं की मानीटरिंग कर रहे हैं। सरकार का मानना है कि देहरादून की पेयजल आपूर्ति में सौंग बांध वरदान साबित होगा। इससे देहरादून जिले को तीस वर्ष से अधिक निर्बाध जल की आपूर्ति सम्भव होगी। इससे ग्रेविटी पर पानी की उपलब्धता रहेगी। 

सौंग बांध के लिए हाईड्रो लॉजिकल क्लीयरेंस, इंटर स्टेट मैटर क्लीयरेंस एवं जल संवहन प्रणाली का डिजाइन का निरीक्षण आईआईटी रुड़की के विशेषज्ञ कर चुके हैं। बांध के डिजाइन, फॉरेस्ट क्लीयरेंस, पर्यावरणीय क्लीयरेंस आदि की प्रक्रिया तेजी से चल रही है। इधर, उत्तराखंड के तराई क्षेत्र में प्रस्तावित जमरानी बांध बहुउद्देशीय परियोजना को केन्द्रीय जल आयोग की तकनीकी सलाहकार समिति द्वारा मंजूरी दी जा चुकी है।

इससे सिंचाई व पेयजल का लाभ मिलने के साथ ही बिजली भी मिलेगी। जमरानी बांध का भी हाईड्रोलॉजिकल क्लीयरेंस, डैम डिजाइन कन्स्ट्रक्शन मशीनरी आदि का कार्य पूर्ण कर लिया गया है। फर्स्ट स्टेज फॉरेस्ट क्लीयरेंस और टीएसी प्रोजेक्ट आदि का कार्य पूरा हो गया है। दूसरे स्टेज का फॉरेस्ट क्लीयरेंस अभी होना बाकी है।

 
 
 
 
 

 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.