Wednesday, Jul 24, 2019

17 जुलाई से शुरू होने जा रहा शिव जी का प्रिय माह सावन, जानें क्या है इसका महत्व

  • Updated on 7/5/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। हिंदू पंचांग के मुताबिक जुलाई माह में कई मुख्य त्योहार और व्रत पड़ रहे हैं, जिनमें सबसे मुख्य है भगवान शिव का प्रिय सावन, जो कि 17 जुलाई से शुरू होने जा रहा है। बता दें इस माह में शिवजी की विशेष पूजा-अर्चना की जाती है। देश भर के सभी शिव मंदिरों में भक्तों की भीड़ लगी रहती है और हर तरफ बस हर-हर महादेव के नारे सुनाई देते हैं।

बजट 2019-20 : पेट्रोल, डीजल के जरिए मोदी सरकार ने जनता पर डाला भार

श्रावण मास के दौरान शिवजी को बिल्व पत्र चढ़ाने का खास महत्व माना जाता है। ऐसे में हिन्दू पंचांग के अनुसार आइए जानते हैं सावन में भगवान शिव की पूजा का महत्व और इसकी समयावधि के बारे में।

बजट में होम लोन के ब्याज पर टैक्ट कटौती, मिलेगा प्रोपर्टी बाजार को बूस्ट

सावन माह का प्रारंभ और समाप्त
सावन माह 17 जुलाई से शुरू होने जा रहा है। इस महीने का पहला सोमवार 22 जुलाई को पड़ रहा है और इसी दिन सभी व्रती सावन के सोमवार का पहला व्रत आरंभ होगा। इसके बाद दूसरा सोमवार 29, तीसरा 5 अगस्त और 12 अगस्त को पड़ेगा। वहीं 15 अगस्त को सावन का अंतिम दिन होगा।

#Aadhaar अध्यादेश को चुनौती देने वाली याचिका पर मोदी सरकार, UIDAI को नोटिस

सावन का महत्व
सावन मास को लेकर शिव पुराण में उल्लेख किया गया है कि जो कोई भी व्यक्ति इस माह में सोमवार का व्रत करता है भगवान शिव उसकी सभी मनोकामनाएं पूरी करते हैं और सभी दुखों और पापों से मुक्ति दिलाते हैं।

बजट 2019 : #NGO की होगी शेयर बाजार में एंट्री, बनेगा सोशल स्टॉक एक्सचेंज

यही कारण है कि सावन के महीने में लाखों श्रद्धालु सावन माह में भगवान शिव की पूजा करते हैं। वहीं इस दौरान ज्योर्तिलिंग के दर्शन के लिए हरिद्वार, काशी, उज्जैन, नासिक समेत भारत के कई धार्मिक स्थलों पर जाते हैं।
 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.