Saturday, May 08, 2021
-->
sc gives next date for hearing on petitions filed against modi govt central vista project rkdsnt

सेंट्रल विस्टा प्रोजेक्ट के खिलाफ दायर याचिकाओं पर सुनवाई के लिए SC ने दी तारीख

  • Updated on 7/14/2020


नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को कहा कि वह सेंट्रल विस्टा परियोजना को लेकर मुद्दे उठाने वाली याचिकाओं पर 17 जुलाई को सुनवाई करेगा। यह परियोजना राष्ट्रपति भवन से लुटियंस दिल्ली में इंडिया गेट तक तीन किलोमीटर के दायरे में है। जस्टिस ए एम खानविल्कर की अध्यक्षता वाली पीठ इन याचिकाओं पर सुनवाई कर रही है। 

रवींद्र रैना के बाद भाजपा महासचिव राम माधव ने खुद को किया क्वारंटीन

इसमें दिल्ली हाई कोर्ट के आदेश के खिलाफ दायर एक याचिका भी शामिल है, जिसमें कहा गया था कि दिल्ली विकास प्राधिकरण (डीडीए) को सेंट्रल विस्टा परियोजना को इजाजत देने के लिए मास्टर प्लान में परिवर्तनों को अधिसूचित करने से पहले उसको सूचित करने की जरूरत नहीं थी। शीर्ष अदालत ने 19 जून को कहा था कि केंद्र सरकार की परियोजना के लिए अधिकारियों द्वारा जमीनी स्तर पर किए गए कोई भी बदलाव ‘‘उनके अपने जोखिम पर होगा।’’ 

एल्गार परिषद मामले में कवि वरवर राव जमानत के लिए हाई कोर्ट में

न्यायालय ने साफ कर दिया था कि परियोजना का भाग्य उसके फैसले पर निर्भर होगा। अदालत को पहले बताया गया था कि दो अधिसूचनाएं जारी की गई हैं - पहला भूमि उपयोग परिवर्तन से संबंधित और दूसरा परियोजना को पर्यावरणीय मंजूरी देने से जुड़ी हुई थी। केंद्र की तरफ से पेश हुए सॉलीसीटर जनरल तुषार मेहता ने शीर्ष अदालत को बताया कि परियोजना को जरूरी मंजूरी देने में किसी नियम का उल्लंघन नहीं किया गया है।

राहुल-प्रियंका ने संभाली राजस्थान सरकार और पार्टी बचाने की कमान

दिल्ली हाई कोर्ट की खंड पीठ ने उसकी एकल न्यायाधीश वाली पीठ के आदेश पर 28 फरवरी को रोक लगा दी थी, जिसमें डीडीए से केंद्र की सेंट्रल विस्टा को फिर से विकसित करने की महत्वाकांक्षी परियोजना पर आगे बढ़ने से पहले मास्टर प्लान में किसी तरह के बदलाव से पहले अदालत का रुख करने को कहा था। डीडीए और केंद्र की अंत: अदालती अपील पर एकल न्यायाधीश की पीठ के 11 फरवरी के निर्देश पर उच्च न्यायालय ने यह रोक लगाई थी। 

जामिया हिंसा से संबंधित याचिकाओं पर कोर्ट ने दिल्ली पुलिस से मांगा जवाब

हाई कोर्ट के समक्ष दो याचिकाकर्ताओं ने सेंट्रल विस्टा परियोजना का इस आधार पर विरोध किया था कि इसमें नई संसद एवं सरकारी कार्यालयों के निर्माण के लिए बगल के राजपथ और विजय चौक के हरित इलाके के भूमि उपयोग में बदलाव किया जाना शामिल है। सेंट्रल विस्टा के पुनर्विकास की केंद्र की महत्वकांक्षी परियोजना के लिए परामर्श बोली गुजरात की वास्तुकला कंपनी एचसीपी डिजाइन ने जीती है। 

 

 

 

यहां पढ़ें कोरोना से जुड़ी महत्वपूर्ण खबरें...

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.