Wednesday, Jun 29, 2022
-->
sc instructions on pm modi security lapse keep all records safe investigation postponed rkdsnt

पीएम मोदी की सुरक्षा चूक मामले पर SC का निर्देश- सभी रिकॉर्ड सुरक्षित रखें, जांच स्थगित रखें

  • Updated on 1/7/2022

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। उच्चतम न्यायालय ने शुक्रवार को केन्द्र और राज्य सरकार से कहा कि वे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के फिरोजपुर दौरे में हुई सुरक्षा चूक की जांच स्थगित कर दें और पंजाब तथा हरियाणा उच्च न्यायालय के रजिस्ट्रार जनरल को निर्देश दिया कि वह तत्काल सभी संबंधित रिकॉर्ड/दस्तावेजों को सुरक्षित रखें। प्रधान न्यायाधीश एन. वी. रमण की अध्यक्षता वाली पीठ का यह निर्देश ऐसे दिन पर आया है जब सुरक्षा चूक मामले की जांच की रही केन्द्र की टीम फिरोजपुर, पंजाब गई थी और बुधवार को प्रधानमंत्री मोदी के दौरे के सुरक्षा इंतजाम के लिए जिम्मेदार अधिकारियों से मिली। 

ड्रोन या टेलीस्कोपिक बंदूक से हो सकती थी पीएम मोदी की हत्या: गिरिराज सिंह 

 

पंजाब में सूत्रों ने बताया कि केन्द्रीय गृह मंत्रालय ने राज्य के कुछ पुलिस अधिकारियों को कारण बताओ नोटिस जारी किया है। साथ ही पंजाब सरकार ने केन्द्र को एक रिपोर्ट सौंप कर बताया है कि अज्ञात प्रदर्शनकारियों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की गई है। फिरोजपुर में किसानों द्वारा अवरुद्ध किए जाने के बाद बुधवार को प्रधानमंत्री का काफिला एक फ्लाईओवर पर करीब 20 मिनट तक रूका रहा था। घटना के बाद प्रधानमंत्री पंजाब में रैली सहित अन्य कार्यक्रमों में भाग लिए बगैर ही वापस लौट आए थे। केन्द्र ने पंजाब की कांग्रेस नीत सरकार पर सुरक्षा चूक का आरोप लगाया और इस संबंध में तत्काल रिपोर्ट देने को कहा था। 

अखिलेश ने पूछा- PM मोदी पंजाब रैली के मंच पर जाते और खाली कुर्सियां देखते तो...

घटना को लेकर राजनीतिक आरोप-प्रत्यारोप शुक्रवार को भी जारी रहा। हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने पंजाब की चरनजीत सिंह चन्नी नीत सरकार को बर्खास्त करने और राज्य में राष्ट्रपति शासन लगाने की मांग की। इस मामले में जांच के लिए केन्द्र और राज्य दोनों ने उच्च-स्तरीय समितियों का गठन किया है। उच्चतम न्यायालय ने शुक्रवार को केन्द्र और राज्य दोनों से सोमवार तक जांच को स्थगित करने को कहा है। उस दिन न्यायालय में इससे जुड़े मामले पर सुनवाई होनी है। न्यायमूर्ति रमण, न्यायमूर्ति सूर्यकांत और न्यायमूर्ति हिमा कोहली की पीठ ने कहा, ‘‘पक्षों के अधिवक्ताओं की दलीलें सुनीं। दी गई दलीलों को ध्यान में रखते हुए और यह प्रधानमंत्री की सुरक्षा से जुड़ा मामला है और अन्य बातों को ध्यान में रखते हुए... पहले कदम के रूप में हमें उचित लगता है कि पंजाब और हरियाणा उच्च न्यायालय के रजिस्ट्रार जनरल को सभी रिकॉर्ड सुरक्षित रखने का निर्देश दिया जाए।’’ 

‘बुली बाई ऐप’ के आरोपी छात्र को मध्य प्रदेश के इंजीनियरिंग कॉलेज ने किया निलंबित

न्यायालय ने पंजाब सरकार, उसकी पुलिस और केन्द्र तथा राज्य की अन्य एजेंसियों को निर्देश दिया है कि वे सभी संबंधित रिकॉर्ड रजिस्ट्रार जनरल को मुहैया कराएं। न्यायालय ‘लॉयर्स वॉयस’ द्वारा सुरक्षा चूक की गहन जांच का अनुरोध करने वाली याचिका पर सुनवाई कर रहा था। याचिका में सुरक्षा इंतजाम से जुड़े साक्ष्यों को सुरक्षित करने, अदालत की निगरानी में जांच कराने और पंजाब सरकार के दोषी अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई का अनुरोध किया गया है। सूत्रों ने बताया कि केन्द्र गृह मंत्रालय द्वारा बृहस्पतिवार को गठित तीन सदस्यीय समिति प्रधानमंत्री मोदी के पंजाब दौरे के दौरान हुई घटना के संबंध में पूरी जानकारी जुटा रहे हैं। इस समिति का नेतृत्व मंत्रिमंडल सचिव (सुरक्षा) सुधीर कुमार सक्सेना कर रहे हैं। इसमें खुफिया ब्यूरो के संयुक्त निदेशक बलबीर सिंह और विशेष सुरक्षा समूह (एसपीजी) के महानिरीक्षक एस. सुरेश, दो अन्य सदस्य के रूप में शामिल हैं। 

पीएम मोदी की सुरक्षा में चूक को लेकर अमरिंदर के साथ BJP पर जमकर बरसे सिद्धू

कोहरे और ठंड के बीच टीम शुक्रवार की सुबह फिरोजपुर में पयारयाण फ्लाईओवर के पास पहुंची और पंजाब पुलिस तथा प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारियों से बातचीत की। फ्लाईओवर पर करीब 45 मिनट रूकने के बाद टीम वहां से करीब 10 किलोमीटर दूर स्थित बीएसएफ की छावनी में गई। वहां टीम ने प्रधानमंत्री के काफिले की सुरक्षित यात्रा के लिए जिम्मेदार वरिष्ठ अधिकारियों से बातचीत की। सूत्रों ने बताया कि इसबीच, पंजाब के मुख्य सचिव अनिरुद्ध तिवारी ने केन्द्रीय गृह मंत्रालय को सुरक्षा चूक के बारे में पत्र लिखकर पूरे घटनाक्रम का ब्यूरो दिया और बताया कि प्राथमिकी दर्ज की गई है। राज्य सरकार ने रिपोर्ट में बताया है कि कथित सुरक्षा चूक की जांच के लिए उसने अपने स्तर पर भी दो सदस्यीय समिति का गठन किया है। 

सुप्रीम कोर्ट ने नीट-पीजी 2021 के लिए काउंसलिंग शुरू करने की दी इजाजत

शुक्रवार को भाजपा (भारतीय जनता पार्टी) के नेताओं ने सुरक्षा चूक को लेकर चन्नी नीत सरकार पर निशाना साधा जबकि कांग्रेस ने इसे कमतर करके देखा। कांग्रेस की पंजाब इकाई के अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू ने दावा किया कि भाजपा प्रधानमंत्री की रैली में कम लोगों के जुटने की ‘बेइज्जती’ से बचने के लिए इस घटना की रट लगाए हुए है। वहीं, उत्तर प्रदेश में समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने तंज कसा, ‘‘पंजाब के लोगों और किसानों को प्रधानमंत्री को मंच तक पहुंचने देना चाहिए था... खाली कुर्सियां देखकर उन्हें अच्छा लगता।’’ वहीं, केन्द्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर ने सुरक्षा चूक मामले में कांग्रेस के शीर्ष नेताओं सोनिया गांधी, राहुल गांधी और प्रियंका गांधी वाद्रा की ‘चुप्पी’ पर सवाल उठाया। अल्पसंख्यक मामलों के केन्द्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने मुंबई में हाजी अली के दरगाह पर प्रधानमंत्री की सलामती की दुआ की।


 

comments

.
.
.
.
.