Monday, Oct 22, 2018

सीलिंग पर SC ने LG को लगाई फटकार, कहा- 15 दिन में बंद हो रिहायशी इलाकों में चल रही फैक्ट्रियां

  • Updated on 10/11/2018

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। दिल्ली में सीलिंग मामले पर सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने उपराज्यपाल अनिल बैजल को फटकार लगाई है। 11अक्टूबर को मामले की सुनवाई करते हुए कोर्ट ने कहा कि यह बहुत ही दुर्भाग्यपूर्ण है कि 15 साल हो गए मॉनिटरिंग कमिटी को गठित करें हुए लेकिन आज भी दिल्ली मे रिहायशी इलाकों में इंडस्ट्रियल यूनिट चल रही है। 

उपराज्यपाल अनिल बैजल को फटकार लगाते हुए कोर्ट ने कहा कि वह कोर्ट को विश्वास दिलाएं कि जितने भी रिहायशी इलाके हैं जहां अवैध तरीके से इंडस्ट्रियल यूनिट चल रहे हैं उन्हें 15 दिन के अंदर सील किया जाएगा। 

पूर्वी दिल्ली में फिर शुरू हुई सीलिंग, डेयरी के बाद अब बूचड़खानों पर लगा ताला

उल्लेखनीय है इस मामले में सुप्रीम कोर्ट ने पिछली सुनवाई में दिल्ली सरकार को फटकार लगाई थी। कोर्ट ने दिल्ली सीलिंग पर सख्त रवईयां अपनाते हुए कहा था कि पूरी दिल्ली में अवैध निर्माण हो रहा है। कोर्ट ने दिल्ली सरकार और निगम से कहा था कि आप लोग दिल्ली में तबाही का इंतजार कर रहे हैं।

मनोज तिवारी को भी लगाई थी फटकार
बता दें कि उत्तर-पूर्वी दिल्ली के गोकुलपुर गांव के एक मकान की सीलिंग तोड़ने के मामले में दिल्ली भाजपा अध्यक्ष मनोज तिवारी सुप्रीम कोर्ट में पेश हुए थे। 

सुप्रीम कोर्ट ने मनोज तिवारी के उस बयान पर नाराजगी जताई जिसमें कहा गया था कि एक हजार जगहें ऐसी हैं, जिसमें सील लगनी चाहिए। सुप्रीम कोर्ट ने मनोज तिवारी को फटकार लगाते हुए कहा कि 'सुबह तक इन सभी जगहों की लिस्ट दें, हम आपको सीलिंग अफसर ही बना देते हैं।' 

रामपाल दो मामलों में दोषी करार,16 -17 अक्टूबर को होगा सजा का ऐलान

हालांकि तिवारी के वकील विकास सिंह ने कहा कि ये लिस्ट न मांगी जाए, क्योंकि ये सांसद है। जिसपर कोर्ट ने कहा कि 'सांसद है तो कुछ करेंगे।'

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.