Saturday, Jun 03, 2023
-->
school-children-continue-to-be-vulnerable-to-corona-infection-11-patients-including-5

स्कूली बच्चों का कोरोना संक्रमण की चपेट में आना जारी, 5 छात्रों सहित 11 मरीजों की पुष्टि 

  • Updated on 4/13/2022

नई दिल्ली/टीम डिजीटल। जनपद गाजियाबाद के विभिन्न स्कूलों में बच्चों के कोरोना संक्रमण की चपेट में आना जारी है। बुधवार को भी चार स्कूली बच्चों और एक इंजीनियरिंग कॉलेज के छात्र समेत 11 लोगों में में कोरोना संक्रमण की पुष्टि हुई। इसमें वसुंधरा सेक्टर-14 स्थित सेठ आनंदराम जयपुरिया स्कूल की दसवीं कक्षा का एक छात्र संक्रमित मिला है। ऐसे में स्कूल को चार दिनों के लिए बंद कर दिया गया है।

छात्रों के लिए ऑनलाइन कक्षाएं शुरू कर दी गई हैं। बुधवार को 2 मरीजों ने संक्रमण को मात भी दी। स्कूलों में संक्रमित बच्चों की संख्या बढऩे पर स्वास्थ्य विभाग भी अलर्ट हो गया है। सीएमओ डॉ. भवतोष शंखधर ने जिला विद्यालय निरीक्षक (डीआईओएस) एवं जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी (बीएसए) को पत्र जारी कर स्कूलों में कोविड को लेकर एहतियात बरतने को कहा गया है।

इसके साथ ही जिले के सभी स्कूलों में नोडल अधिकारी नियुक्त करने को कहा है। वहीं, यदि कोई बच्चा कोरोना संक्रमित मिलने पर स्वास्थ्य विभाग को सूचना दें, जिससे संक्रमित बच्चे का उपचार कराते हुए अन्य बच्चों की जांच कर संक्रमण को फैलने से रोका जा सकें। बुधवार को 11 नए संक्रमितों की पुष्टि हुई है। इसमें 12 साल तक के 2 बच्चे, 13 से 20 तक के 2 व 21 से 40 तक के 5 लोग शामिल है। सक्रिय मरीजों की संख्या 35 पहुंच गई है। 
 

इन स्कूलों में पहुंच चुका संक्रमण 
बीते 3 दिनों में जनपद के 5 स्कूलों में पढऩे वाले एक शिक्षिका समेत कई बच्चों तक कोरोना संक्रमण पहुंच चुका है। इसमें 10 अप्रैल को सेंट फ्रांसिस स्कूल से एक छात्र, केबी मंगलम स्कूल से 11 व 12 अप्रैल को 2, डीपीएस इंदिरापुरम से 11 अप्रैल को एक, 12 अप्रैल को केडी पब्लिक स्कूल से एक छात्र, गुरूकुल द स्कूल से भी एक छात्र शामिल है। इसके अलावा दो जिले से बाहर अन्य स्कूलों में पढऩे वाले बच्चे है। संक्रमण को लेकर बुधवार को गुरूकुल द स्कूल समेत अन्य स्कूलों में बच्चों व टीचर की कोविड जांच की गई। 

पाबंदिया खत्म होने से बढ़ा खतरा 
जिला सर्विलांस अधिकारी डॉ. आरके गुप्ता का कहना है कि कोरोना संक्रमण फिर से बढ़ रहा है। लेकिन, 31 मार्च को महामारी एक्ट को निष्प्रभावी कर दिया गया था। जिसके बाद कोविड प्रोटोकॉल संबंधी सभी पाबंदियां खत्म हो गईं। मास्क लगाने को लेकर किसी तरह की सख्ती नहीं बरती जा रही हैए केवल लोगों से मास्क का प्रयोग करने के लिए अपील की जा रही है। वहीं, संक्रमण को लेकर महामारी एक्ट खत्म होने से कंटेनमेंट जोन नहीं बना सकतें है। हालांकि, जल्द ही टेस्टिंग के लिए बूथों की संख्या बढाई जाएगी। 

कोविड से बचाव के स्कूलों को निर्देश  
जिला सर्विलांस अधिकारी डॉ. आरके गुप्ता ने बताया कि संक्रमण से बचाव के लिए सरकारी, अद्र्ध सरकारी और निजी स्कूलों में सैनेटाइजेशन और कोविड जांच के लिए बीएसए और डीआईओएस को पत्र लिखा गया है। दोनों अधिकारियों को सभी स्कूलों में कोविड से बचाव संबंधी उपायों मास्कए सोशल डिस्टेंसिंग और सेनेटाइजेशन का पालन करवाने की जिम्मेदारी भी दी गई है। इसके अलावा सभी सरकारी और निजी क्षेत्र की इकाइयों में कोविड हेल्क डेस्क बनाने के भी निर्देश दिए गए हैं। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.