Wednesday, Dec 08, 2021
-->
scientist claims india third wave of corona epidemic will peak in november if rkdsnt

वैज्ञानिक का दावा- कोरोना महामारी की तीसरी लहर नवंबर में होगी चरम पर, अगर...

  • Updated on 8/23/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। अगर कोरोना वायरस के डेल्टा स्वरूप के अलावा और स्वरूप सामने आते हैं व सितंबर के अंत तक पूरी तरह से सक्रिय होते हैं, तो उस स्थिति में महामारी की तीसरी लहर नवंबर में अपने चरम पर होगी। महामारी की गणितीय गणना (सूत्र मॉडल)के आधार पर पूर्वानुमान लगाने वाली टीम में शामिल एक वैज्ञानिक ने सोमवार को यह दावा किया। इसके साथ ही उनका कहना है कि कोरोना वायरस की दूसरी लहर की तरह तीसरी लहर में मामलों में तेजी नहीं आएगी और संभव है कि इससे काफी हद तक पहली लहर की तरह स्थिति उत्पन्न होगी। 

मौलाना साद की मां की गुजारिश पर कोर्ट ने दिल्ली पुलिस को दिया चाबियां सौंपने का निर्देश

भारतीय प्रौद्यागिकी संस्थान (आईआईटी) कानपुर के वैज्ञानिक मनिंद्र अग्रवाल ने कहा कि अगर वायरस का नया स्वरूप नहीं आता, तो हो सकता है कि तीसरी लहर आए ही नहीं। अग्रवाल तीन सदस्यीय विशेषज्ञ टीम का हिस्सा है जिसे मामलों की संख्या को लेकर पूर्वानुमान लगाने की जिम्मेदारी दी गई है।

मौलाना साद की मां की गुजारिश पर कोर्ट ने दिल्ली पुलिस को दिया चाबियां सौंपने का निर्देश

अग्रवाल ने कहा, ‘‘नए आंकड़ों के आधार पर हम कह सकते हैं कि देश कोरोना वायरस महामारी की तीसरी लहर के चरम को नंवबर में देख सकता है, बशर्ते वायरस के अधिक संक्रामक स्वरूप सामने आएं। उस परिस्थिति में हम रोजाना 1.5 लाख तक नए मामले देख सकते हैं और यह नवंबर में चरम पर होगा। हालांकि, इसकी व्यापकता दूसरी लहर की तरह नहीं होगी लेकिन पहली लहर से मिलती जुलती होगी।’’

उमर खालिद ने दिल्ली दंगों को बताया साजिश, विरोधाभासों की ओर किया इशारा

 उन्होंने बताया कि यह पूर्वानुमान अनुमानों पर आधारित है। उल्लेखनीय है कि वायरस के डेल्टा स्वरूप की वजह से देश में दूसरी लहर आई थी और मार्च से मई महीने के बीच इसने विकराल रूप धारण कर लिया था और लाखों लोग संक्रमित हुए थे जबकि हजारों लोगों की मौत हुई थी। सात मई को देश में कोविड-19 के सबसे अधिक 4,14,188 नए मामले आए थे। इस समय दुनिया के अलग-अलग हिस्सों में वायरस के डेल्टा स्वरूप से मामले बढ़ रहे हैं। अग्रवाल ने नए आंकड़ों का हवाला देते हुए कहा, ‘‘अगर वायरस का अधिक संक्रामक स्वरूप (इस समय देश में मौजूद वायरस के स्वरूप के मुकाबले) नहीं आता है तो हो सकता है कि देश में तीसरी लहर नहीं आए।’’

जयशंकर अफगानिस्तान के घटनाक्रम पर राजनीतिक दलों के नेताओं को देंगे जानकारी 

उन्होंने कहा कि जल्द ही आंकड़ों को सार्वजनिक किया जाएगा। उल्लेखनीय कि पिछले महीने सूत्र मॉडल टीम ने अनुमान लगाया था कि कोरोना वायरस की तीसरी लहर अगस्त महीने में शुरू हो सकती है और अक्टूबर में चरम पर पहुंच सकती है। मॉडल में अनुमान लगाया गया था कि रोजाना डेढ से दो लाख नए मामले आ सकते हैं। हालांकि, अगस्त में मामलों में वृद्धि नहीं देखी गई। गणितीय विज्ञान संस्थान के अनुसंधानकर्ताओं के मुताबिक 14 से 16 अगस्त के बीच कोरोना वायरस महमारी का ‘रिप्रोडक्टिव वैल्यू’ या आर वैल्यू (एक व्यक्ति द्वारा दूसरे व्यक्ति को संक्रमित करने का औसत) 0.89 रहा। संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए जरूरी है कि यह एक से नीचे रहे। 

कल्याण सिंह की श्रद्धांजलि सभा में राष्ट्रध्वज के ऊपर BJP का झंडा, विपक्ष ने उठाए सवाल

 

 

 

comments

.
.
.
.
.