Monday, Jan 21, 2019

वैज्ञानिकों ने वीडियो में व्यक्तियों की पहचान करने वाली कृत्रिम मेधा प्रणाली विकसित की

  • Updated on 12/25/2018

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। वैज्ञानिकों ने एक कृत्रिम मेधा प्रणाली विकसित की है जो किसी वीडियो में व्यक्तियों की पहचान के साथ ही उनकी आयु एवं लिंग के बारे में अधिक तेजी से और सटीकता से पहचान कर सकती है। रूस के ‘हाई स्कूल ऑफ इकोनामिक्स’ के अनुसंधानकर्ताओं के अनुसार यह खोज पहले ही एनड्रॉयड मोबाइल ऐप में ऑफलाइन पहचान प्रणाली का आधार बन चुकी है।

बाबरी मस्जिद एक्शन कमेटी का मंदिर मुद्दे पर मुसलमानों को खास संदेश

आधुनिक न्यूराल नेटवर्क वीडियो में 90 प्रतिशत सटीकता से लिंग की पहचान करता है। हालांकि आयु के बारे में जानकारी देने में कुछ जटिलता है। पारंपरिक न्यूराल नेटवर्क उम्र के अलग-अलग मूल्यों पर विचार करता है। नेटवर्क प्रत्येक वीडियो फ्रेम में छवि में आने वाले व्यक्ति की एक निश्चित आयु की संभावना का अनुमान लगाता है।

मध्य प्रदेश शपथ ग्रहण समारोह: कमलनाथ के मंत्रिमंडल में 28 मंत्रियों को मिली जगह

उदाहरण के लिए यदि यह प्रणाली किसी वीडियो के 30 प्रतिशत फ्रेम में किसी व्यक्ति की आयु 21 वर्ष होने का अनुमान लगाती है और 10 प्रतिशत में 60 वर्ष तो इसका निष्कर्ष यह होगा कि 30 प्रतिशत की संभावना के साथ व्यक्ति की आयु 21 वर्ष और 10 प्रतिशत की संभावना के साथ उसकी आयु 60 वर्ष है। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.