Monday, Apr 22, 2019

 वैज्ञानिकों ने तेल पीने वाले एक नए जीवाणु का लगाया पता 

  • Updated on 4/14/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। वैज्ञानिकों (scientists) ने पृथ्वी के महासागरों के सबसे गहरे हिस्से मारियाना ट्रेंच (Mariana Trench) में तेल पीने वाले जीवाणु (Bacteria) का पता लगाया है। इससे पानी में फैले हुए तेल को स्थायी तरीके से हटाने में मदद मिल सकती है।  

RTI में खुलासा- सियासी दलों को सबसे महंगे बॉन्ड से मिला 99.8% चुनावी चंदा

बता दें कि मारियाना ट्रेंच (Mariana Trench) पश्चिमी प्रशांत महासागर में करीब 11,000 मीटर की गहराई पर स्थित है।  अध्ययन का नेतृत्व करने वाले चीन (chaina) के ‘ओशन विश्वविद्यालय’ के शियो हुआ झांग ने कहा, ‘‘ हमें महासागर के सबसे गहरे हिस्से के बजाय मंगल ग्रह के बारे में अधिक पता है।’’    

#EVMs गड़बड़ी को लेकर विपक्ष ने की संयुक्त प्रेस कांफ्रेंस, EC पर साधा निशाना

अभी तक कुछ ही लोगों ने इस पारिस्थितिकी तंत्र में रहने वाले जीवों के बारे में अध्ययन किया है।   ब्रिटेन के ‘ईस्ट एंग्लिया विश्वविद्यालय’ के जोनाथन टोड (jonathan todd) ने कहा, ‘‘ हमारा दल मारियाना ट्रेंच (Mariana Trench)  के सबसे गहरे हिस्से में लगभग 11,000 मीटर नीचे माइक्रोबियल जीवाणु के नमूने लेने गया। हमने लाए गए नमूनों का अध्ययन किया और हाइड्रोकार्बन डिग्रेडिंग बैक्टीरिया (Hydrocarbon-degrading bacteria) के एक नए समूह का पता लगाया।’’ 

#EVMs गड़बड़ी को लेकर विपक्ष ने की संयुक्त प्रेस कांफ्रेंस, EC पर साधा निशाना

टोड ने एक बयान में कहा, ‘‘ हाइड्रोकार्बन कार्बनिक यौगिक हैं। जो हाइड्रोजन और कार्बन परमाणु के बने होते हैं। ये कच्चे तेल और प्राकृतिक गैस सहित कई स्थानों पर पाए जाते हैं।  उन्होंने कहा, ‘‘ इस तरह के सूक्ष्मजीव तेल में मौजूद यौगिकों को खा जाते है, और फिर ईंधन के रूप में इसका इस्तेमाल करते हैं। इस तरह के सूक्ष्मजीव प्राकृतिक आपदा से हुए तेल रिसाव को समाप्त करने में भी अहम भूमिका निभाते हैं। ’’   

 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.