Sunday, Jun 13, 2021
-->
sealing-of-delhi-again-30-complexes-sealed-in-amar-colony

दिल्ली में फिर गिरी सीलिंग की गाज, अमर कॉलोनी में सील हुए 30 कॉम्प्लेक्स

  • Updated on 10/27/2018

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। दक्षिणी नगर निगम के अधिकारी और नेता सीलिंग का भले ही हल न निकाल पाएं हों, लेकिन अमर कॉलोनी के कारोबारियों ने इसकी काट निकाल ली थी। यहां के व्यापारियों ने अपना कारोबार दुकान के पीछे वाले दरवाजे से चलाना शुरू कर दिया था। लेकिन उनका यह तरीका ज्यादा दिन तक नहीं चल सका।

कुछ कारोबारियों की शिकायत के बाद आखिरकार शुक्रवार को मॉनिटरिंग कमेटी ने छापेमारी कर कुल 30 दुकानों के बैक गेट को सील कर दिया। इस दौरान कारोबारियों और कमेटी के बीच काफी झड़प भी हुई। लेकिन पर्याप्त पुलिस बल मौजूद होने के कारण हालात बेकाबू नहीं हो सके।

लोजपा सांसद के बेटे की सड़क दुर्घटना में मौत, ग्रेटर नोएडा एक्सप्रेसवे पर हुआ हादसा

गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट की मॉनिटरिंग कमिटी के आदेश के चलते मार्च माह में सालों पुरानी अमर कॉलोनी की करीब 400 दुकानों को सील कर दिया गया था। आरोप था कि इस रिहायशी कॉलोनी में लोगों ने पूरी मार्केट बना डाली और मकानों को दुकानों में तब्दील कर आगे व पीछे सरकारी जमीन पर भी कब्जा कर लिया।

पाकिस्तान से आकर बसे यह लोग तब से अपने रोजगार को लेकर परेशान हो रहे हैं और केंद्र सरकार, दिल्ली सरकार से लेकर सुप्रीम कोर्ट तक में गुहार लगा चुके हैं। सूत्र बताते हैं कि इन दुकानों के आगे करीब 10 फुट और पीछे की ओर लगभग 17 फुट अतिक्रमण है। 

बुलंदशहर से दबोचा गया ISI का एजेंट, इस वारदात को अंजाम देने की थी साजिश

कार्रवाई के बाद व्यापार कर दिया था शिफ्ट
अमर कॉलोनी में दुकानें सील होने के बाद कारोबारियों ने अपनी दुकानों को अन्य जगहों पर शिफ्ट कर लिया था। सील हुई दुकान से कारोबारी अपना सामान निकालने के लिए बैक गेट का इस्तेमाल कर रहे थे। लेकिन अब उस गेट पर भी सीलिंग की मुहर लगा दी गई। 

CBI ने दाती महाराज पर कसा शिकंजा, रेप और अप्राकृतिक यौन संबंध का केस दर्ज

फार्म हाउस को किया सील
उत्तरी नगर निगम ने मॉनिटरिंग कमेटी के निर्देश पर शुक्रवार को सिविल लाइन जोन में दो फार्म हाउस को सील कर दिया। जिसमें टीम ने रॉयल गोल्ड फार्म के एक प्वाइंट और कैलाश फार्म हाउस के दो प्वाइंट पर सीलिंग की मुहर लगाई। बता दें कि, दक्षिणी नगर निगम में फार्म हाउस और मोटल्स को सीलिंग से बचाने के लिए एक नई पॉलिसी तक ला दी गई, जबकि उत्तरी नगर निगम में पॉलिसी नहीं होने के कारण इन पर कार्रवाई की गई।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.