Saturday, Jan 28, 2023
-->
sebi-slaps-rs-26-crore-fine-on-coffee-day-enterprises

SEBI ने कॉफी डे एंटरप्राइजेज पर 26 करोड़ रुपये का जुर्माना लगाया 

  • Updated on 1/24/2023

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। बाजार नियामक सेबी ने मंगलवार को कॉफी डे एंटरप्राइजेज पर 26 करोड़ रुपये का जुर्माना लगाया। कैफे कॉफी डे चलाने वाली कंपनी कॉफी डे पर यह कार्रवाई अनुषंगियों के धन का उपयोग प्रवर्तक से जुड़ी एक कंपनी में करने के मामले में हुई। भारतीय प्रतिभूति और विनिमय बोर्ड (सेबी) ने एक आदेश में कहा कि कंपनी को यह जुर्माना 45 दिन के अंदर जमा करने का निर्देश दिया गया है।

BJP को MCD चुनाव में हार मान लेनी चाहिए, ताकि मेयर चुनाव सुगमता से हों: सिसोदिया

इसके साथ ही सेबी ने कॉफी डे एंटरप्राइजेज लिमिटेड को मैसूर एमल्गमेटेड कॉफी एस्टेट्स लिमिटेड (एमएसीईएल) और उसकी संबंधित इकाइयों से अनुषंगी इकाइयों से सभी बकाया राशि ब्याज समेत वसूली के लिए हर जरूरी कदम उठाने का निर्देश दिया। कंपनी को बकाया राशि की वसूली के लिए जरूरी कदम उठाने के लिए एनएसई से परामर्श कर एक स्वतंत्र विधि कंपनी नियुक्त करनी होगी।

JNU छात्रसंघ के पोस्टर में बीबीसी वृत्तचित्र के प्रदर्शन का ऐलान, कार्यक्रम रद्द करने का आदेश 

सेबी के 43 पृष्ठ के आदेश के अनुसार, उसने कॉफी डे एंटरप्राइजेज लिमिटेड (सीडीईएल) की सात अनुषंगी कंपनियों के 3,535 करोड़ रुपये मैसूर एमल्गमेटेड कॉफी एस्टेट्स लिमिटेड को दिये गये। यह कंपनी सीडीईएल के प्रवर्तकों से जुड़ी है। ये सात अनुषंगी कंपनियां- कॉफी डे ग्लोबल, टेंग्लिन रिटेल रिएलिटी डेवलपमेंट्स, टेंग्लिन डेवलपमेंट्स, गिरि विद्युत (इंडिया) लिमिटेड, कॉफी डे होटल्स एंड रिजार्ट, कॉफी डे ट्रेडिंग और कॉफी डे एकॉन हैं।

न्यायाधीश निर्वाचित नहीं होते, इसलिए उन्हें बदला नहीं जा सकता लेकिन... : रीजीजू 

सेबी ने कहा, ''एमएसीईएल की सात अनुषंगियों से भेजा गया पैसा वीजीएस (वीजी सिद्धार्थ), उनके परिवार और संबंधित इकाइयों के निजी खातों में है और इसलिए व्यवस्था में बना रहा।'' कॉफी डे के चेयरमैन वीजी सिद्धार्थ ने कथित रूप से जुलाई, 2019 में आत्महत्या कर ली थी।

NSE को ‘को-लोकेशन' मामले में बड़ी राहत, 625 करोड़ रुपये देने का SEBI का आदेश खारिज 

खबर है कि उन्होंने एक आत्महत्या से पहले निदेशक मंडल और कॉफी डे परिवार को संबोधित एक पत्र (सुसाइड नोट) भी छोड़ा था, जिसमें उन्होंने खुलासा किया था कि वे भारी कर्ज तले दबे हैं। आदेश के अनुसार, एमएसीईएल लगभग वीजीएस के परिवार के स्वामित्व में है। परिवार की हिस्सेदारी 91.75 प्रतिशत है। साथ ही वीजीएस परिवार सीडीईएल का प्रवर्तक भी है।

निगरानी समिति गठित करने से पहले सलाह नहीं लेने पर भी नाराज हैं प्रदर्शनकारी पहलवान

 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.