Saturday, Jan 22, 2022
-->
seismological research letters a major earthquake may hit the himalayas sohsnt

हिमालय में आ सकता है बड़ा भूकंप, रिक्टर स्केल पर 8 से ज्यादा होगी तीव्रता- स्टडी

  • Updated on 10/23/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। हिमालय पर्वत श्रृंखला (Himalaya Mountains) में बड़ा भूकंप (Earthquake) आने की आशंका जाहिर की गई है। ऐसा माना जा रहा है कि इसकी तीव्रता रिक्टर स्केल पर आठ या उससे भी अधिक हो सकती है। इसके साथ ही वैज्ञानिकों का कहना है कि इन झटकों के कारण घनी आबादी वाले देशों में बड़ी तादात में जानमाल का नुकसान हो सकता है। हालांकि ये भूकंप कब आएंगे इस बात को लेकर अभी तक कुछ स्पष्ट नहीं किया गया है। 

बिहार चुनाव 2020: राहुल-तेजस्वी आज एक साथ करेंगे चुनाव प्रचार की शुरुआत

एक स्टडी में कही गई ये बात
दरअसल, हिमालय में आने वाले बड़े भूकंप की बात एक हालिया स्टडी में की गई है। इस अध्ययन में जिओलॉजिकल, हिस्टोरिकल और जियोफीजिकल डेटा की समीक्षा कर भविष्यवाणी की गई है। विशेषज्ञों का कहना है कि इसमें कोई बड़ी बात नहीं होगी अगर ये भीषण भूकंप हमारे जीवनकाल में ही आ जाए। इस अध्ययन में स्पष्ट किया गया है कि भविष्य में हिमालय क्षेत्र में आने वाले भूकंप की सीक्वेंस की भी 20वीं सदी में एलेयूटियन जोन में आए भूकंप जितनी हो सकती है। 

कोरोना के मुफ्त टीके के वादे पर घिरी भाजपा, विपक्षी दलों ने की चुनाव आयोग से कार्रवाई की मांग

सिस्मोलॉजिकल रिसर्च लेटर्स जर्नल में कही गई ये बात
सिस्मोलॉजिकल रिसर्च लेटर्स जर्नल में आई इस स्टडी में चट्टानों के सतहों के विश्लेषण, स्ट्रक्चरल ऐलानिलिस, मिट्टी के विश्लेषण और रेडियोकार्बन ऐनालिसिस जैसे बेसिक जिओलॉजिकल सिद्धांतों का प्रयोग किया गया है। इसके आधार पर प्रागैतिहासिक काल में आए भूकंपों का समय और तीव्रता का अनुमान लगाया जाता है। इसी आधार पर ही भविष्य में आने वाले भूकंप के जोखिम का आकलन भी किया जाता है।

मुंबई: सीएए और जेएनयू हमले के विरोध में प्रदर्शन करने वालों को पुलिस ने जारी किया नोटिस 

संपूर्ण हिमालय आ सकता है भूकंप की जद में
अध्ययन के लेखक और अमेरिका की यूनिवर्सिटी ऑफ नवादा में जिऑलजी और सिस्मोलॉजी के प्रोफेसर स्टीवन जी. वोस्नोस्की का कहना है कि 'इसकी जद में संपूर्ण हिमालयन क्षेत्र पूरब में भारत के अरुणाचल प्रदेश से लेकर पश्चिम में पाकिस्तान तक अतीत में बड़े भूकंप का केंद्र रह चुका है। उन्होंने कहा, इन भूकंपों के फिर से आने का अनुमान है। उन्होंने कहा ये हमारे ही जीवनकाल के दौरान देखे जाएं तो कोई हैरानी की बात नहीं होगी।

बिहार चुनाव में उतरने से पहले राहुल ने किसानों के मुद्दे पर सरकार को घेरा

सुप्रियो मित्रा ने कही ये बात
बता दें की प्रोफेसर स्टीवन की ये बात तब और सही मालूम होने लगती है जब भारतीय विज्ञान शिक्षा एवं अनुसंधान संस्थान के प्राध्यापक सुप्रियो मित्रा भी इस बात का जिक्र करते हैं। मित्रा के मुताबिक, अध्ययन पूर्व में किये गये अध्ययनों से मिलता जुलता है। उन्होंने इस बात की पुष्टि करते हुए कहा, हिमालय में स्थित भ्रंश आठ से अधिक तीव्रता वाला भूकंप ला सकता है। अध्ययन के मुताबिक, देश की राजधानी दिल्ली, चंडीगढ़ और देहरादून तथा नेपाल के काठमांडू जैसे बड़े शहर हिमालय में आने वाले भूकंप की चपेट में आ सकते हैं।

comments

.
.
.
.
.