Wednesday, Jun 29, 2022
-->
self-awareness-discipline-country-s-big-strength-in-fight-against-omicron-modi-rkdsnt

ओमीक्रोन के खिलाफ लड़ाई में स्वयं की सजगता, अनुशासन ‘बड़ी ताकत’ : मोदी 

  • Updated on 12/26/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। ओमीक्रोन के लगातार बढ़ते मामलों के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को कहा कि कोरोना वायरस के नए स्वरूप के खिलाफ लड़ाई में स्वयं की सजगता और अनुशासन देश की बड़ी ताकत हैं। मोदी ने ‘मन की बात’ रेडियो कार्यक्रम में कहा कि यदि भारत के टीकाकरण संबंधी आंकड़ों की वैश्विक आंकड़ों से तुलना की जाए, तो देश ने अपनी टीकाकरण मुहिम में ‘‘अभूतपूर्व’’ काम किया है, लेकिन लोगों को ओमीक्रोन के मद्देनजर सतर्क रहना चाहिए। मोदी ने कहा, ‘‘हमारे वैज्ञानिक इस नए ओमीक्रोन स्वरूप का लगातार अध्ययन कर रहे हैं। उन्हें हर रोज नए आंकड़े मिल रहे हैं और उनके सुझावों के आधार पर कदम उठाए जा रहे हैं।’’

हरिद्वार ‘धर्म संसद’ में घृणा भरे भाषणों पर भाजपा ने सवालों से काटी कन्नी

उन्होंने कहा कि कोरोना वायरस के नए स्वरूप के खिलाफ लड़ाई में स्वयं की सजगता और अनुशासन देश की बड़ी ताकत हैं। उन्होंने कहा, ‘‘हमारी सामूहिक ताकत कोरोना वायरस को हराएगी। हमें जिम्मेदारी की इस भावना के साथ 2022 में प्रवेश करना होगा।’’      उन्होंने कहा, ‘‘टीकों की 140 करोड़ खुराक देने के पड़ाव को पार करना प्रत्येक भारतवासी की अपनी उपलब्धि है। यह प्रत्येक भारतीय का व्यवस्था पर भरोसा दिखाता है, विज्ञान पर भरोसा दिखाता है और वैज्ञानिकों पर भरोसा दिखाता है। यह समाज के प्रति अपने दायित्वों को निभा रहे हम भारतीयों की इच्छाशक्ति का प्रमाण भी है।’’   

कृषि कानूनों पर तोमर बोले- हम एक कदम पीछे हटे और हम फिर आगे बढ़ेंगे

  मोदी ने शनिवार को घोषणा की थी कि अगले साल तीन जनवरी से 15 से 18 साल की आयु के किशोरों के लिये टीकाकरण अभियान आरंभ किया जाएगा। उन्होंने कहा था कि 10 जनवरी से स्वास्थ्य र्किमयों एवं अग्रिम मोर्चे पर तैनात र्किमयों और अन्य गंभीर बीमारियों से ग्रसित 60 वर्ष से अधिक आयु के लोगों को चिकित्सकों की सलाह पर एहतियात के तौर पर टीकों की खुराक दिए जाने की शुरुआत की जाएगी।  

शिअद नेता मजीठिया को कोर्ट में लगा झटका, सीएम चन्नी भी सख्त

    मोदी ने रविवार को ‘मन की बात’ कार्यक्रम में ग्रुप कैप्टन वरुण सिंह का भी जिक्र किया, जिन्होंने तमिलनाडु के कुन्नूर के निकट हुए हेलीकॉप्टर हादसे में गंभीर रूप से घायल होने के बाद पिछले सप्ताह बेंगलुरु के एक सैन्य अस्पताल में दम तोड़ दिया था। इस हादसे में प्रमुख रक्षा अध्यक्ष जनरल बिपिन रावत, उनकी पत्नी और सशस्त्र बलों के 11 र्किमयों की मौत हो गई थी। आठ दिसंबर को हुए इस हादसे में केवल ग्रुप कैप्टन सिंह ही जीवित बचे थे।   

हरिद्वार में धर्म संसद में नफरत भरे भाषण दिए जाने को लेकर FIR दर्ज

  प्रधानमंत्री ने ग्रुप कैप्टन सिंह को शौर्य चक्र से सम्मानित किए जाने के कुछ सप्ताह बाद उनके द्वारा अपने स्कूल को लिखे प्रेरणादायी पत्र का भी जिक्र दिया।      मोदी ने कहा, ‘‘इस खत को पढ़कर मेरे मन में पहला विचार यही आया कि सफलता के शीर्ष पर पहुंच कर भी वह जड़ों को सींचना नहीं भूले। दूसरा (विचार यह आया) कि जब उनके पास जश्न मनाने का समय था, तो उन्होंने आने वाली पीढिय़ों की ङ्क्षचता की। वह चाहते थे कि जिस स्कूल में वह पढ़े, वहां के विद्याॢथयों की जिंदगी भी एक जश्न बने।’’       उन्होंने कहा कि वायुसेना अधिकारी ने लिखा था कि यदि वह किसी एक छात्र को भी प्रेरित कर सके, तो यह उनके लिए बहुत मायने रखेगा। उन्होंने कहा कि वह दरअसल पूरे देश की प्रेरणा बने।   

पंजाब विधानसभा चुनाव के लिए AAP ने जारी की अपने उम्मीदवारों की तीसरी लिस्ट

  प्रधानमंत्री ने कहा कि वह हर साल की तरह ‘परीक्षा पे चर्चा’ कार्यक्रम में छात्रों से संवाद करने की योजना बना रहे हैं और उन्होंने छात्रों एवं अन्य से इसके लिए माईगोवडॉटइन पर पंजीकरण करने की अपील की।      उन्होंने पुस्तकें पढऩे की आदत की प्रशंसा करते हुए कार्यक्रम के श्रोताओं से ऐसी पांच किताबों के बारे में बताने को कहा, जो इस साल उनकी पसंदीदा रहीं है।      मोदी ने कहा, ‘‘जब लोग स्क्रीन के सामने अधिक समय बिता रहे हैं, तो ऐसे में पुस्तक पढऩे को और लोकप्रिय बनाया जाना चाहिए।’’ 

comments

.
.
.
.
.