Wednesday, Jan 27, 2021

Live Updates: Unlock 8- Day 26

Last Updated: Tue Jan 26 2021 10:47 AM

corona virus

Total Cases

10,677,710

Recovered

10,345,278

Deaths

153,624

  • INDIA10,677,710
  • MAHARASTRA2,009,106
  • ANDHRA PRADESH1,648,665
  • KARNATAKA936,051
  • KERALA911,382
  • TAMIL NADU834,740
  • NEW DELHI633,924
  • UTTAR PRADESH598,713
  • WEST BENGAL568,103
  • ODISHA334,300
  • ARUNACHAL PRADESH325,396
  • RAJASTHAN316,485
  • JHARKHAND310,675
  • CHHATTISGARH296,326
  • TELANGANA293,056
  • HARYANA267,203
  • BIHAR259,766
  • GUJARAT258,687
  • MADHYA PRADESH253,114
  • ASSAM216,976
  • CHANDIGARH183,588
  • PUNJAB171,930
  • JAMMU & KASHMIR123,946
  • UTTARAKHAND95,640
  • HIMACHAL PRADESH57,210
  • GOA49,362
  • PUDUCHERRY38,646
  • TRIPURA33,035
  • MANIPUR27,155
  • MEGHALAYA12,866
  • NAGALAND11,709
  • LADAKH9,155
  • SIKKIM6,068
  • ANDAMAN AND NICOBAR ISLANDS4,993
  • MIZORAM4,351
  • DADRA AND NAGAR HAVELI3,377
  • DAMAN AND DIU1,381
Central Helpline Number for CoronaVirus:+91-11-23978046 | Helpline Email Id: ncov2019 @gov.in, ncov219 @gmail.com
severe cold and rain also did not discourage the farmers albsnt

कड़ाके की ठंड और बारिश से भी किसानों के हौसले नहीं हुए पस्त,बढ़ी सरकार की सिरदर्दी

  • Updated on 1/5/2021


नई दिल्ली/कुमार आलोक भास्कर। दिल्ली में किसान आंदोलन लगातार जारी है। इस आंदोलन से दिल्लीवासियों और आसपास से राजधानी आने-जाने वालों को काफी दिक्कतों का भी सामना करना पड़ रहा है। साथ ही इस बात से भी इनकार नहीं किया जा सकता कि आंदोलनरत किसानों को भी दोहरी मार कपकंपाती ठंड और उपर से बारिश का भी सामना करना पड़ा है।जो काफी असहनीय है।

लव जिहाद पर रार! पप्पू यादव ने योगी पर देश और समाज में नफरत फैलाने का लगाया आरोप

केंद्र सरकार की हो रही किरकिरी

अगर इस आंदोलन से केंद्र सरकार की लगातार किरकिरी हो रही- यह कहना गलत नहीं होगा। भले ही केंद्र सरकार ने 8 वें दौर तक की बातचीत किसानों के साथ की हो लेकिन यह बेनतीजा रहा। जो केंद्र सरकार के लिये भी चिंता का विषय बनी हुई है। कारण कोरोना काल में 40 दिन से ज्यादा किसानों का आंदोलन के लिये बैठना कहीं न कहीं सरकार की विफलता को भी दर्शाता है। 

सौरव गांगुली के स्वास्थ्य को लेकर कीर्ति आजाद के ट्वीट पर फूटा 'दादा' के फैंस का गुस्सा

दिल्ली में कड़ाके की ठंड और बारिश 

दिल्ली में आंदोलन ऐसे समय हो रहा है जब ठंड अपने चरम पर है। वहीं दो-चार दिनों से बारिश ने खुले में रहने को मजबूर भारी संख्या में किसानों की नींद ही उड़ा दी है। हालांकि संगठनों ने अपने स्तर पर किसानों को राहत पहुंचाने के लिये टेंट की भी व्यवस्था की है। इसके वाबजूद घर से दूर बाहर में रातें गुजारना ठंड के मौसम में कोई आसान नहीं है। उधर जब 8वें दौर की बातचीत के लिये किसान संगठन के प्रमुख नेताओं से केंद्र सरकार के साथ बातचीत की। तो एक बार फिर सहमति नहीं बन पाई। कृषि मंत्री ने कृषि कानून में संसोधन की बात कही तो किसान नेताओं ने सीधे कृषि कानून को वापस की मांग पर अड़े रहे। 

किसान आंदोलन: ट्रैक्टर में सवार महिलाएं कर रही दिल्ली कूच, 26 जनवरी को परेड की चेतावनी

सरकार के साथ अब तक कई दौर की बातचीत 

उधर कृषि मंत्री ने बैठक के बाद इस बात पर जोर दिया कि दोनों पक्षों को सकारात्मक रुख अपनाना चाहिये,ताकि जल्द से जल्द समाधान हो सकें। हालांकि फिर से 8 जनवरी को बैठक होगी,जिस पर सबकी नजर फिर से टिक गई है। लेकिन कृषि मंत्री का यह बयान बेहद महत्वपूर्ण माना जा रहा है जिसमें उन्होंने कहा कि किसी नतीजे पर पहुंचने से पहले देश भर के किसान संगठनों की भी बात सुनी जाएगी। जिससे एक बात साफ हो गया है कि यह आंदोेलन जल्द खत्म होने नहीं जा रहा है। इस आंदोलन में ज्यादातर किसान पंजाब, हरियाणा और पश्चिमी उत्तर प्रदेश से ही है। ऐसे में कृषि मंत्री के नए बयान से फिर से पेंच फंसना स्वाभाविक है। दूसरी तरफ किसान संगठन कानून को ही वापसी चाहते है जो सरकार के लिये आसान नहीं है।   

 

comments

.
.
.
.
.