Sunday, Jan 19, 2020
severe cyclonic storm bulbul hits costal west bengal

बंगाल के तटीय इलाकों से टकराया #Cyclone 'बुलबुल', अगले 6-8 घंटों में मचा सकता है तबाही!

  • Updated on 11/10/2019

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। पश्चिम बंगाल (West Bengal) के तटीय क्षेत्र में चक्रवाती तूफान बुलबुल (Cyclone bulbul) ने दस्तक दे दी है। जिसके कारण यहां कई जगहों पर तेज हवाओं के साथ बारिश हो रही है।  भारतीय मौसम विभाग के अनुसार 02.30 बजे से चक्रवाती तूफान बुलबुल का दबाव सुंदरबन नेशनल पार्क से 12 किमी दक्षिण पश्चिम की ओर पश्चिम बंगाल और बांग्लादेश के तटीय इलाकों पर बना हुआ है।  

संभावना जताई जा रही है कि चक्रवाती तूफान सुबह तक पश्चिम बंगाल के दक्षिण 24 परगना जिले से होते हुए उत्तर-पूर्व में बांग्लादेश की ओर बढ़ेगी। तटीय बांग्लादेश और इससे सटे दक्षिण और उत्तर 24 परगना जिले तक पहुंचते-पहुंचते इसका प्रभाव कम हो सकता है।  

मौसम विभाग की चक्रवात ‘बुलबुल’ को लेकर चेतावनी, अगले आदेश तक समुद्र तट पर न जाए मछुआरे

चक्रवाती तूफान के कारण दो लोगों की मौत!
सूत्रों के अनुसार अभी तक इस चक्रवाती तूफान के कारण दो लोगों की मौत होने की संभावना भी जताई जा रही है। वहीं इससे निपटने की तैयारी में प्रशासन की ओर से भी युद्धस्तर पर तैयारी की जा रही है। जिन भी इलाकों में इसके प्रभाव की संभावना है वहां से लाखों लोगों को निकालकर राहत शिविरों में पहुंचाया जा रहा है। 

चक्रवात वायु : गुजरात में परिवहन सेवाएं, बंदरगाह पर कामकाज रोका

50 से 60 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार चल रही हवाएं
भारतीय मौसम विभाग का कहना है कि 50 से 60 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं चल रही हैं। संभावना है कि हवाओं की गति बढ़कर 70 किलोमीटर प्रति घंटा हो सकती है। बताया जा रहा है कि पश्चिम बंगाल और ओडिशा इस चक्रवाती तुफान के कारण अब तक एक एक मौत हो चुकी है। 

आने वाले 6 घंटे बेहद गंभीर
बता दें कि आने वाले 6 घंटे पश्चिम बंगाल और बांग्लादेश के लिए बेहद गंभीर है। इन 6 घंटो में तटों पर हाइटाइड आएंगे। मौसम विभाग ने मछुआरों को अगले 12 घंटों तक पश्चिम बंगाल और उत्तर ओडिशा  के तटीय इलाकों पर समुद्र में न जाने की सलाह दी है। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.