Sunday, May 31, 2020

Live Updates: 67th day of lockdown

Last Updated: Sat May 30 2020 11:28 PM

corona virus

Total Cases

174,000

Recovered

82,369

Deaths

4,971

  • INDIA7,843,243
  • MAHARASTRA62,228
  • TAMIL NADU20,246
  • NEW DELHI17,387
  • GUJARAT15,944
  • RAJASTHAN8,365
  • MADHYA PRADESH7,645
  • UTTAR PRADESH7,445
  • WEST BENGAL4,813
  • BIHAR3,359
  • ANDHRA PRADESH3,330
  • KARNATAKA2,781
  • TELANGANA2,425
  • PUNJAB2,197
  • JAMMU & KASHMIR2,164
  • ODISHA1,723
  • HARYANA1,721
  • KERALA1,151
  • ASSAM1,058
  • UTTARAKHAND716
  • JHARKHAND521
  • CHHATTISGARH415
  • HIMACHAL PRADESH295
  • CHANDIGARH289
  • TRIPURA254
  • GOA69
  • MANIPUR59
  • PUDUCHERRY53
  • ANDAMAN AND NICOBAR ISLANDS33
  • MEGHALAYA27
  • NAGALAND25
  • ARUNACHAL PRADESH3
  • DADRA AND NAGAR HAVELI2
  • DAMAN AND DIU2
  • MIZORAM1
  • SIKKIM1
Central Helpline Number for CoronaVirus:+91-11-23978046 | Helpline Email Id: ncov2019 @gov.in, ncov219 @gmail.com
shadow-generates-electricity-singapore-scientists-prsgnt

अब परछाई से बनाई जाएगी बिजली, सिंगापुर के वैज्ञानिकों ने किया अनूठा प्रयोग

  • Updated on 5/23/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। सिंगापुर के वैज्ञानिकों ने बिजली पैदा करने का एक अनोखा तरीका खोज निकाला है। अपनी इस खोज में वैज्ञानिकों ने परछाई यानी शैडो का उपयोग करते हुए बिजली बनाने की प्रकिया ढूंढ ली है।

बिजली बनाने के लिए वैज्ञानिक अक्सर कोई न कोई प्रयोग करते रहते हैं। इसी क्रम में सिंगापुर स्थित एक यूनिवर्सिटी के वैज्ञानिकों ने परछाई पर सफल परिक्षण कर बिजली बनाई है।

चीन के इस दुर्लभ जीव का मांस है 1 लाख रु. किलो, बढ़ती डिमांड के कारण विलुप्त होने को है ये जीव

क्या है ये प्रयोग
इस प्रयोग में वैज्ञानिकों ने परछाई के काले प्रभाव को इस्तेमाल कर बिजली बनाई है। वैज्ञानिकों का कहना है कि परछाई का क्षेत्र काला होता है जो किसी वस्तु पर पड़ने वाले प्रकाश के बीच में किसी अपारदर्शी वस्तु के आने पर दिखाई देने लगता है। वैज्ञानिकों ने इसी प्रभाव का उपयोग बिजली बनाने में किया है।

खिसक रही है धरती, बड़े हो रहें हैं पहाड़, धरती के केंद्र में हो रही है ये कैसी हलचल, पढ़ें रिपोर्ट

बिजली बनाने का उपकरण
एनयूएस मटेरियल साइंस एंड इंजिनियारिंग के वैज्ञानिकों ने इस काले प्रभाव से बिजली बनाने के लिए एक उपकरण बनाया है जिसमें परछाई से पैदा हुए प्रभाव का उपयोग किया जाता है। इस उपकरण को शैडो इफ़ेक्ट जनरेटर नाम दिया गया है। ये जनरेटर चमकदार और परछाई की सीमा पर प्रदीप्ति विषमता यानी रोशनी के विपरीत जो है उसका उपयोग करता है।

भारत में नीलगिरी की पहाड़ियों के बीच बनाई जा रही है एक खुफिया सुरंग, जानिए क्यों?

कैसे बनी बिजली
वैज्ञानिकों ने बताया कि इस उपकरण की मदद से हमने परछाई के कारण बनी प्रदीप्ति विषमता का इस्तेमाल किया और उसकी इनडायरेक्ट शक्ति या एनर्जी का सौर्स की तरह इस्तेमाल किया। हमने देखा कि रोशनी के विपरीत पैदा हुई परछाई से और प्रकाशित हिस्से के बीच वोल्टेज में अंतर उत्पन्न हुआ जिससे बिजली का करंट बन गया और इसी से बिजली बन गई।

वहीँ, वैज्ञानिकों का कहना है कि ये अपनी तरह का पहला प्रयोग है आजतक कभी इस तरह का कोई भी प्रयोग दुनिया में नहीं किया गया है।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.