Monday, Mar 30, 2020
shanta kumar expressed displeasure with center and delhi government over shaheen bagh

बीजेपी नेता शांता कुमार ने शाहीन बाग को लेकर केंद्र और दिल्ली सरकार से जताई नाराजगी

  • Updated on 2/28/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। हिमाचल प्रदेश (Himachal Pradesh) के पूर्व सीएम शांता कुमार ने दिल्ली के शाहीन बाग में CAA के विरोध में जारी पर आज ऐतराज जताया है। उन्होंने अभी तक धरने के लिए केंद्र और राज्य सरकार दोनों को जिम्मेदार ठहराते हुए धरने की वैधता पर सवाल उठाया है। 

पूर्व प्रधानमंत्रियों ने CAA पर सिर्फ कहा PM मोदी ने कर के दिखाया- जेपी नड्डा

सुप्रीम कोर्ट के वार्ताकर भेजने पर उठाया सवाल

उन्होंने कानूनी रूप से निर्णय देने के बजाय वार्ताकारों को भेजने के फैसले पर आज उच्चतम न्यायालय की भी कड़ी आलोचना की।  उन्होंने  आज सोलन में कहा कि देश शाहीन बाग के प्रकरण से निबटने में असफल रहा है। उन्होंने आश्चर्य प्रकट करते हुए कहा कि केंद्र या राज्य सरकार सार्वजनिक स्थल पर इतने लंबे समय तक चलने वाले धरने की अनुमति कैसे दे सकती हैं?       

हिमाचल: विपिन सिंह परमार सर्वसम्मति से चुने गए विधानसभा के 17वें अध्यक्ष

केंद्र सरकार और दिल्ली सरकार शाहीन बाग से निपटने में रही अक्षम

शाहीन बाग में वार्ताकारों को भेजने के उच्चतम न्यायालय के फैसले पर सवाल खड़े करते हुए बीजेपी नेता ने कहा कि हालांकि वे न्यायपालिका और उच्चतम न्यायालय का सम्मान करता है। लेकिन न्यायपालिका का काम न्याय देना है, धरना स्थल पर वार्ताकारों को भेजना नहीं होता है।  उन्होंने कहा कि अगर शाहीन बाग की तरह सौ जगहों पर धरने होने लगें तो क्या उच्चतम न्यायालय और उच्च न्यायालय उन सभी स्थानों पर वार्ताकार भेजेंगे? उन्होंने कहा कि लोगों को धरना और प्रदर्शन करने का अधिकार है लेकिन ऐसा काम करने का अधिकार नहीं है जिससे दूसरों को असुविधा हो।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.