Tuesday, Jan 25, 2022
-->
shehla rashid sedition case delhi court arrest notice

शेहला रशीद की गिरफ्तारी को लेकर दिल्ली HC ने पुलिस को दिया ये आदेश

  • Updated on 11/16/2019

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। जवाहर लाल नेहरू विश्विवद्यालय (JNU) की पूर्व उपाध्यक्ष और सामाजिक कार्यकर्ता शेहला रशीद (Shehla Rashid) के खिलाफ चल रहे राजद्रोह (Sedition) के मामले में दिल्ली की एक अदालत ने पुलिस से कहा कि उनकी गिरफ्तारी से 10 दिन पहले उन्हें नोटिस दिया जाएगा। जम्मू कश्मीर में अनुच्छेद 370 (Article 370) लगने के बाद सोशल मीडिया पर सेना के खिलाफ लिखने तथा सेना की बदनामी करने के आरोप में शेहला रशीद पर राजद्रोह का आरोप लगा है।

दरअसल, शेहला रशीद ने 18 अगस्त 2019 को जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 के खंड एख को छोड़कर सभी खंड हटाए जाने और भारतीय सेना को लेकर 10 ट्वीट किये थे। जिसमें शेहला ने सेना पर आरोप लगाया था की जम्मू कश्मीर में सेना लोगों के साथ अत्याचार कर रही है। 

जम्मू-कश्मीर में शहला रशिद ने BDC चुनाव का किया विरोध, छोड़ी राजनीति

सेना ने दिया था शेहला के ट्वीट का जवाब
इसके बाद सेना की ओर से ट्वीट कर कहा गया कि शेहला उन पर झूठा आरोप लगा रहीं हैं। वहीं शेहला के ट्वीट पर जम्मू-कश्मीर सरकार और सूचना जनसंपर्क विभाग के निदेशक सईद सेहरिश ने भी बयान जारी कर इनके आरोपों का खंडन किया था और कहा की घाटी में कानून व्यवस्था को लेकर कोई अप्रिय घटना नहीं हुई है। 

शेहला रशीद देशद्रोह के केस में नहीं होगी गिरफ्तार, कोर्ट से मिली बड़ी राहत

अंतरराष्ट्रीय मीडिया में भारत और सेना के खिलाफ चली खबर
शेहला पर आरोप है कि उनके ट्वीट को लेकर अंतरराष्ट्रीय मीडिया में भारत और सेना के खिलाफ खबर चली। जिससे देश और सेना के छवी को धूमिल करने की कोशिश की गई है। इसके साथ ही आरोप है कि शेहला ने हिंसा भड़काने के इरादे से जानबूझकर देश के खिलाफ झूठी खबरें फैलाई है। उन्होंने अपने ट्वीट के द्वारा जम्मू-कश्मीर में अशांति फैलाने की कोशिश की है। इसी मामले में वकील अलख आलोक श्रीवास्तव ने पुलिस से मांग की थी कि शेहला ने भारतीय सेना और सरकार के खिलाफ झूठी खबरें फैलाई हैं, इसलिए शेहला के खिलाफ केस दर्ज कर उनको गिरफ्तार किया जाए। 

कन्हैया- शेहला पर देशद्रोह वाली फाइल दबाने को लेकर केजरीवाल सरकार को फटकार

पहले भी दे चुकी हैं विवादित बयान
इससे पहले भी शेहला रशीद पर विवादित बयान देने का आरोप लगते रहे हैं। फरवरी में उन्होंने ट्वीट कर देहरादून में कश्मीर छात्रों को बंधक बनाने को लेकर झूठी खबर फैलाई थी। इस बयान पर देहरादून पुलिस ने शेहला के खिलाफ लोगों की धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचाने का आरोप लगाया था। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.