Friday, Jun 18, 2021
-->
shigella-disease-confirmed-in-ernakulam-kerala-prsgnt

कोरोना के बाद केरल में इस जानलेवा बीमारी ने दी दस्तक, एक की मौत के साथ मिले अब तक 7 केस

  • Updated on 12/31/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। भारत में केरल में सबसे पहले कोरोना वायरस (Corona virus) संक्रमण फैला था और वहां जल्द ही कोरोना पर नियंत्रण पा लिया गया है। लेकिन अब वहां एक नई कोरोना वायरस जैसी बीमारी फैलने के बारे में जानकारी मिल रही हैं। इस बीमारी का नाम शिगेला बताया जा रहा है। 

इस बीमारी के कारण अभी 11 साल के एक लड़के की मौत हो चुकी है। अब इस बीमारी के लक्षण केरल के एर्नाकुलम जिले में भी दिखे हैं जहां 56 साल की एक महिला को इससे पीड़ित बताया जा रहा है। यह पहले केरल में कोझिकोड में पाई गई थी।

वहीँ, 56 साल की महिला में इस बीमारी के लक्षण देखे गए हैं जिसे एर्नाकुलम के एक निजी हॉस्‍प‍िटल में एडमिट कराया गया है। यह महिला बुखार आने पर 23 दिसंबर से हॉस्‍प‍िटल में इलाज करा रही है। 

कोरोना वैक्सीन को लेकर आई गुड न्यूज, ब्रिटेन ने दी ऑक्सफोर्ड वैक्सीन को मंजूरी

निगरानी में हैं मरीज 
इस बीमारी के बारे में एर्नाकुलम जिले के कलेक्‍टर एस सुहास ने बताया कि अभी घबराने की कोई बात नहीं है।  बीमारी के अभी लक्षण ही दिख रहे हैं और सिर्फ दो लोगों हैं इसलिए उन्हें निगरानी में रखा गया है। 

वहीं, केरल के स्‍वास्‍थ्‍य विभाग ने कहा है कि इलाके में टीकाकरण कैंपेन चलाए जा रहे हैं। इसके साथ ही चोट्टानिक्‍कारा और आसपास के इलाके को डिसइन्‍फेक्‍टेड किया जा रहा है। बता दें क‍ि 11 साल के बच्‍चे की इस बीमारी से कोझिकोड में मौत होने के बाद कोझिकोड में हर किसी को एंटी बैक्‍टीरियल दवाई दी जा रही है। यहां 7 लोग शिगेला बीमारी से ग्रसित बनाए जा रहे हैं। 

Corona के नए स्ट्रेन से हुई नई मानसिक बीमारी 'कोविड साइकोसिस' की पुष्टि, क्या है यह पढ़ें रिपोर्ट

क्या है ये बीमारी 
शिगेला बीमारी केरल में अब तेजी से फैलती जा रही है। यह बीमारी दूषित/गंदे पानी और खाने से फैल रही है। मुख्य रूप से यह बीमारी आंतों को प्रभावित करती है और मल के साथ खून भी निकलता है। इस बीमारी से कम उम्र के यानी 5 साल के कम उम्र के बच्‍चे हाई रिस्‍क में हैं।  

शिगेला बीमारी मरीज के साथ रहने पर प्रत्‍यक्ष और अप्रत्‍यक्ष, दोनों तरह से फैल सकती है। इसके लक्षण मरीज में दो से सात दिनों तक रह सकते हैं और कुछ मामलों में लक्षण लम्बे समय तक बने रह सकते हैं और कुछ में जरूरी नहीं की लक्षण दिखाई भी दें। 

यहां पढ़े अन्य खबरें...

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.