Friday, Feb 26, 2021
-->
shiromani akali dal increased problems modi bjp government on agricultural bills rkdsnt

कृषि विधेयकों पर अकाली दल ने मोदी सरकार की बढ़ाई मुश्किलें, कौर का इस्तीफा

  • Updated on 9/17/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। कृषि से संबंधित 3 विधेयकों पर शिरोमणि अकाली दल (SAD) और भाजपा के बीच दरार बढ़ गई है। शिरोमणि अकाली दल (SAD) के नेताओं ने मंगलवार को भारतीय जनता पार्टी (BJP) के राष्ट्रीय अध्यक्ष जे पी नड्डा (JP Nadda) से दिल्ली में मुलाकात की थी और उनसे आग्रह किया कि केंद्र सरकार को कृषि से संबंधित 3 विधेयकों पर किसानों की चिंताओं का निराकरण करना चाहिए। लेकिन, दोनों दलों के बीच बात नहीं बनी है। इसके बाद शिरोमणि अकाली दल नेता और केंद्रीय मंत्री हरसिमरत कौर बादल ने कृषि संबंधी विधेयकों के विरोध में सरकार से इस्तीफा देने का ऐलान किया है। इसकी जानकारी आज लोकसभा में सुखबीर सिंह बादल ने दी है। 

दिल्ली दंगा मामले में विपक्षी दलों के नेता राष्ट्रपति से मिले, पुलिस की भूमिका पर उठाए सवाल

बता दें कि पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने केंद्र की मोदी सरकार में शामिल शिरोमणि अकाली दल को कृषि संबंधी विधेयकों पर चुनौती दी थी कि वह इस मुद्दे पर सरकार से नाता तोड़ दे। बता दें कि प्रदेश के किसान कृषि संबंधी विधेयकों को लेकर आंदोलन और विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं।

IPL 2020 : कोहली बोले- खाली स्टेडियमों को टीम ने किया स्वीकार

कश्मीरी अलगाववादी नेता शब्बीर शाह की पत्नी के खिलाफ ED ने दायर किया आरोप पत्र

 

शिरोमणि अकाली दल की नेता और खाद्य प्रसंस्करण उद्योग मंत्री हरसिमरत कौर बादल ने संसद में पेश किये गये कृषि से संबंधित दो विधेयकों के विरोध में बृहस्पतिवार को केंद्रीय मंत्रिमंडल से इस्तीफा दे दिया। उन्होंने ट्वीट किया, ‘‘मैंने किसान विरोधी अध्यादेशों और विधेयकों के विरोध में केंद्रीय मंत्रिमंडल से इस्तीफा दे दिया है। किसानों की बेटी और बहन के तौर पर उनके साथ खड़े होने पर गर्व है।’’ इससे पहले शिरोमणि अकाली दल नेता सुखबीर सिंह बादल ने लोकसभा में कहा कि पार्टी नेता और केंद्रीय मंत्री हरसिमरत कौर बादल संसद में लाये गये कृषि संबंधी विधेयकों के विरोध में केंद्र सरकार से इस्तीफा देंगी।  

किसान विरोधी बिलों को वापस ले मोदी सरकार, AAP करेगी इन कानूनों का विरोध : केजरीवाल

कृषि उपज व्यापार और वाणिज्य (संवद्र्धन और सुविधा) विधेयक-2020 और कृषक (सशक्तिकरण एवं संरक्षण) कीमत आश्वासन समझौता और कृषि सेवा पर करार विधेयक-2020 पर चर्चा में भाग लेते हुए सुखबीर बादल ने कहा, ‘‘शिरोमणि अकाली दल किसानों की पार्टी है और वह कृषि संबंधी इन विधेयकों का विरोध करती है।’’ विधेयक का पुरजोर विरोध करते हुए उन्होंने कहा कि पंजाब के किसानों ने अन्न के मामले में देश को आत्मनिर्भर बनाने के लिये महत्वपूर्ण योगदान दिया है।अकाली दल नेता ने लोकसभा में कहा, ‘‘ मैं एक घोषणा करना चाहता हूं कि हमारी मंत्री हरसिमरत कौर बादल मंत्रिमंडल से इस्तीफा देंगी।’’ 

 

दिल्ली दंगे: कन्हैया, प्रशांत समेत कार्यकर्ताओं ने की UAPA के तहत आरोपियों को छोड़ने की मांग

 

उन्होंने इन आरोपों को खारिज कर दिया कि उनकी पार्टी ने प्रारंभ में इन अध्यादेशों का समर्थन किया था। सुखबीर बादल ने कहा कि हरसिमरत कौर बादल ने मंत्रिमंडल की बैठक में ङ्क्षचता प्रकट की थी और कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर को पत्र लिखकर प्रस्तावित कानून की खामियों को रेखांकित किया था। कांग्रेस पर निशाना साधते हुए उन्होंने आरोप लगाया कि इस पार्टी का इस मुद्दे पर दोहरा मानदंड है और 2019 के लोकसभा चुनाव तथा 2017 के पंजाब विधानसभा चुनाव में उसके घोषणा पत्र में एपीएमसी अधिनियम को खत्म करने का उल्लेख था। 

शिरोमणि अकाली दल के अध्यक्ष ने कहा कि इन विधेयकों का पंजाब के 20 लाख किसानों और कृषि क्षेत्र के 15-20 लाख मजदूरों पर प्रभाव पड़ेगा। निचले सदन में चर्चा के दौरान कांग्रेस के आरोपों को खारिज करते हुए उन्होंने कहा, ‘‘ शिरोमणि अकाली दल ने कभी भी यू-टर्न नहीं लिया।’’ बादल ने कहा, ‘‘हम राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) के साथी हैं। हमने सरकार को किसानों की भावना बता दी। हमने इस विषय को हर मंच पर उठाया। हमने प्रयास किया कि किसानों की आशंकाएं दूर हों लेकिन ऐसा नहीं हो पाया।’’ 

दिल्ली दंगा: पुलिस ने UAPA के तहत दायर की चार्जशीट, उमर खालिद का नाम नहीं

उन्होंने कहा कि पंजाब में लगातार सरकारों ने कृषि आधारभूत ढांचा तैयार करने के लिये कठिन काम किया लेकिन यह अध्यादेश उनकी 50 साल की तपस्या को बर्बाद कर देगा। गौरतलब है कि केंद्रीय खाद्य प्रसंस्करण मंत्री हरसिमरत कौर बादल मोदी सरकार में अकाली दल की एकमात्र प्रतिनिधि हैं। अकाली दल, भाजपा की सबसे पुरानी सहयोगी पार्टी है। चर्चा के दौरान कांग्रेस के रवनीत सिंह बिट्टू ने शिरोमणि अकाली दल पर चुटकी लेते हुए यह सबूत देने की मांग की कि हरसिमरत कौर बादल ने इन विधेयकों का विरोध किया था। उन्होंने कहा कि अगर वह विधेयक के विरोध में इस्तीफा नहीं देती हैं तो बादल परिवार के लिये पंजाब में वापसी कठिन हो जायेगी।

कोरोना संकट : किफायती दर पर टीका हासिल करने की कोशिश करे भारत - कांग्रेस

 

यहां पढ़ें कोरोना से जुड़ी महत्वपूर्ण खबरें...

सुशांत मौत मामले में CBI ने दर्ज की FIR, रिया के नाम का भी जिक्र

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.