Wednesday, Aug 17, 2022
-->
shiromani akali dal sad attacked sirsa who joined bjp said betrayed khalsa panth rkdsnt

BJP में शामिल हुए सिरसा पर अकाली दल ने बोला हमला, कहा- खालसा पंथ के साथ किया विश्वासघात

  • Updated on 12/1/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। शिरोमणि अकाली दल ने पंजाब में विधानसभा चुनाव से पहले अपने नेता मनजिंदर सिंह सिरसा के भारतीय जनता पार्टी में शामिल होने के बाद उनकी आलोचना की और कहा कि उन्होंने खालसा पंथ के साथ विश्वासघात किया तथा उनके खिलाफ एक मामला दर्ज है, इसलिए उन्होंने पाला बदला। शिअद ने सिरसा के भाजपा में शामिल होने को खालसा पंथ के दुश्मनों की साजिश द्वारा वह हासिल करने की महज एक कोशिश बताया जो वे सिख कौम की इच्छा के साथ हासिल नहीं कर सकते। 

संबित पात्रा को ONGC के बाद भारत पर्यटन विकास निगम में मिला अहम पद 

 

शिअद ने एक बयान में कहा, ‘‘यह सिख समुदाय के खिलाफ (पूर्व प्रधानमंत्री) इंदिरा गांधी की तरकीबों को जारी रखना है और सरकारी शक्ति के दुरूपयोग के जरिये तथा झूठे मामले दर्ज कर खालसा पंथ की धार्मिक संप्रभुता पर एक और सीधा हमला है। ’’ इसने कहा कि सिरसा, शिअद दिल्ली प्रमुख जत्थेदार हरमीत सिंह कालका और दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के 11 अन्य सदस्यों के खिलाफ एक मामला दर्ज किया गया था। 

सेंट्रल विस्टा: केंद्र ने कोर्ट को बताया - दिल्ली वक्फ की संपत्ति को कुछ नहीं हो रहा

शिअद ने कहा, ‘‘लेकिन जब अन्य सभी सदस्यों ने दमन से लडऩे की परंपरा कायम रखी, यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि सिरसा दबाव के आगे झुक गये और खालसा पंथ के साथ विश्वासघात किया।’’ बयान में कहा गया है, ‘‘खालसा पंथ किसी व्यक्ति से बहुत बड़ा है। लोग आते जाते रहेंगे। खालसा पंथ आगे बढ़ता रहेगा और सदा बढ़ता रहेगा। ’’ 

सिसोदिया ने चन्नी के गृह जिले के स्कूलों किया दौरा, शिक्षा की गुणवत्ता पर वाकयुद्ध तेज

 

इसमें कहा गया है, ‘‘सिख जनसमूह के खिलाफ पंथ के दुश्मन कभी जीत नहीं सकते। इसलिए वे इन साजिशों का सहारा लेकर हमेशा कौम को कमजोर करने की कोशिश करते हैं। ’’ सिरसा ने भाजपा में शामिल होने से पहले दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के प्रमुख पद से भी इस्तीफा दे दिया। वह यहां केंद्रीय मंत्रियों धर्मेंद्र प्रधान और गजेंद्र सिंह शेखावत की मौजूदगी में भाजपा में शामिल हुए। 

अखिलेश का संघ-भाजपा पर कटाक्ष, कहा- जिनके पास परिवार नहीं है, वे जनता का दर्द नहीं समझ सकते 

भाजपा मुख्यालय में पार्टी में शामिल होने के बाद सिरसा ने केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह और भाजपा अध्यक्ष जे पी नड्डा से मुलाकात की। सिरसा राष्ट्रीय राजधानी में शिरोमणि अकाली दल का एक प्रमुख चेहरा रहे हैं और तीनों विवादास्पद कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों के विरोध प्रदर्शन का मजबूती से समर्थन करते आ रहे थे। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.