Wednesday, Jan 19, 2022
-->
Shiv Sena gave suggestion the opposition should be united under the leadership of Rahul ALBSNT

शिवसेना ने दिया सुझाव, राहुल के नेतृत्व में विपक्ष एकजुट हो, ममता की दावेदारी को किया खारिज

  • Updated on 10/10/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। नरेंद्र मोदी की अगुवाई वाली एनडीए सरकार का एकमात्र विकल्प कांग्रेस नेतृत्व ही दे सकती है। यह मानना है शिवसेना पार्टी का, जो महाराष्ट्र में कांग्रेस के साथ मिलकर सरकार चला रही है। इसी कड़ी में सामना में लेख के माध्यम से TMC और ममता बनर्जी के नरेंद्र मोदी के विकल्प बनने को खारिज कर दिया है।

UP Election: मोदी के गढ़ से प्रियंका ने आगाज किया चुनावी अभियान, मांगा गृह राज्य मंत्री का इस्तीफा

बता दें कि साल 2024 में लोकसभा चुनाव को लेकर विपक्ष अपनी रणनीति देने में जुटा है। लेकिन विपक्षी नेताओं की एकता तब खंडित हो जाती है जब नरेंद्र मोदी के विकल्प बनने की बात आती है। कांग्रेस लगातार राहुल गांधी को अगला पीएम के तौर पर प्रोजेक्ट करती रही है। तो वहीं बंगाल में किला फतह के बाद टीएमसी नेता और सीएम ममता बनर्जी ने कहा कि देश भर में उनकी पार्टी अपना जनाधार बढ़ाएगी। ताकि अगले लोकसभा चुनाव में नरेंद्र मोदी को कड़ी टक्कर दे सके। जिस पर शिवसेना ने साफ कर दिया कि राहुल के नेतृत्व से उसे कोई ऐतराज नहीं है।

जानें एक सवाल से कैसे गिरफ्तार हुए आशिष...तो मोदी के मौैन और कांग्रेस के सक्रियता के क्या हैं मायने?

मालूम हो कि शिवसेना ने अपने लेख में टीएमसी और आप पार्टी को परोक्ष रुप से बीजेपी को मदद करने का आरोप लगाया है। उन्होंने कहा कि ऐसे दल विपक्षी एकता को सेंध लगाना चाहता है। वहीं यूपी के लखीमपुर खीरी में प्रियंका गांधी की सक्रियता की जमकर तारीफ की है। शिवसेना ने प्रियंका को इंदिरा गांधी जैसी साहसी नेता बताया। 

 

 

comments

.
.
.
.
.