Thursday, May 13, 2021
-->
shiv sena leader sanjay raut ayodhya tour bjp jammu kashmir mehbooba mufti

राहुल को अपने साथ अयोध्या ले जाएंगे CM ठाकरे! राउत ने BJP को दी ये चुनौती

  • Updated on 1/25/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। महाराष्ट्र (Maharashtra) के मुख्यमंत्री और शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) महाराष्ट्र विकास अघाड़ी सरकार के 100 दिन सत्ता में पूरे होने पर 7 मार्च को भगवान राम का आशीर्वाद लेने अयोध्या (Ayodhya) जाएंगे। ऐसे में पार्टी के वरिष्ठ नेता संजय राउत (Sanjay Raut) ने कांग्रेस नेता राहुल गांधी (Rahul Gandhi) को भी अयोध्या यात्रा के लिए न्योता दिया है। राहुल गांधी को अयोध्‍या ले जाने के बीजेपी (BJP) के सवाल पर राउत ने कहा कि क्या आप जम्मू-कश्मीर (Jammu And Kashmir) की पूर्व सीएम महबूबा मुफ्ती (Mehbooba Mufti) को अपने साथ अयोध्या दौरे पर ले जाने का साहस दिखाएंगे?

CAA के समर्थन में शिवसेना! कहा- बांग्लादेश- PAK से आए मुसलमानों को निकाल फेंकना चाहिए

दरअसल, भाजपा ने महाराष्ट्र के सीएम उद्धव ठाकरे से राहुल गांधी को अपने साथ अयोध्या ले जाने को कह रही है। तो इसी पर तंज कसते हुए शिवसेना (Shiv Sena) नेता ने पूछा कि क्या भाजपा नेता जम्मू-कश्मीर की पूर्व सीएम महबूबा मुफ्ती को अपने साथ अयोध्या दौरे पर ले जाएंगे? 

राज ठाकरे 'मराठी मानुष' से 'हिंदुत्व' की राह पर, बदला MNS का झंडा और नारा 

ठाकरे के अयोध्या दौरे में कांग्रेस, NCP आमंत्रित: राउत
इससे पहले संजय राउत ने कहा था कि महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के सत्ता में 100 दिन पूरे होने के उपलक्ष्य पर मार्च में उनके प्रस्तावित अयोध्या दौरे में उनके सहयोगी दलों कांग्रेस एवं राकांपा का स्वागत है। राउत ने कहा था कि भगवान राम की पूजा-अर्चना करने का उस सामान्य न्यूनतम कार्यक्रम से कोई लेना देना नहीं है जिसके आधार पर महाराष्ट्र में सरकार गठित करने के लिए वैचारिक रूप से अलग तीन विभिन्न दल एकसाथ आए थे।

महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव परिणाम की पिछले साल अक्टूबर में घोषणा के बाद सत्ता साझा करने को लेकर मतभेद के कारण शिवसेना और भाजपा का गठबंधन टूट गया था। इसके बाद ठाकरे का उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) स्थित अयोध्या का यह पहला दौरा होगा। राउत ने कहा था, "हमने अपने सहयोगियों समेत सभी को आमंत्रित किया है। हर कोई अपने घर में भगवान राम की पूजा करता है। इसलिए, वे अयोध्या में भी हमारे साथ मिलकर पूजा-अर्चना कर सकते हैं।"

मंदिर निर्माण के लिए अयोध्या आमंत्रित किए जाएंगे राम भक्त

ठाकरे ने टाल दिया था अयोध्या दौरा 
राउत ने कहा था कि भगवान राम की पूजा करने का उस सामान्य न्यूनतम कार्यक्रम से कोई लेना देना नहीं है जिसे लेकर महाराष्ट्र विकास अघाड़ी सरकार के गठन के दौरान तीनों दलों में सहमित बनी थी। इससे पहले, ठाकरे ने 24 नवंबर 2019 को अपना अयोध्या दौरा टाल दिया था। शिवसेना ने महाराष्ट्र में सरकार गठन के लिए अंतत: राकांपा एवं कांग्रेस से हाथ मिला लिया था। ठाकरे ने 28 नवंबर 2019 को मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ग्रहण की थी और हाल में उन्होंने कार्यालय में 50 दिन पूरे किए।     

नागरिकता कानून को लेकर लोगों को भड़काने का काम कर रही है कांग्रेस: आदित्यनाथ

100 दिन सत्ता में पूरे होने पर अयोध्या जाएंगे CM ठाकरे
राउत ने बुधवार को ट्वीट किया था, "सरकार भगवान राम के आशीर्वाद से पांच साल का कार्यकाल पूरा करने के लिए काम कर रही है। सत्ता में 100 दिन पूरे होने के मौके पर भगवान राम का आशीर्वाद लेने और अपनी भविष्य की रणनीति तैयार करने के लिए ठाकरे अयोध्या जाएंगे।" ठाकरे आखिरी बार जून 2019 में पार्टी के नवनिर्वाचित 18 सांसदों के साथ अयोध्या गए थे और रामलला मंदिर में पूजा अर्चना की थी।
 

comments

.
.
.
.
.