Tuesday, Oct 19, 2021
-->
shiv-sena-support-jaya-bachchan-through-saamana-editorial-like-river-ganga-prsgnt

जया बच्चन के समर्थन में आई शिवसेना, मुखपत्र सामना में लिखा- गंगा की तरह निर्मल है सिनेजगत

  • Updated on 9/16/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। संसद में रवि किशन (Ravi Kishan) ने फिल्म इंडस्ट्री में ड्रग कनेक्शन को लेकर अपनी बात रखी लेकिन उन्हें इसके विरोध में सांसद जया बच्चन का जिस थाली में खाते हो उसी में छेद करते हो सुनने को मिला। जया बच्चन ने रवि किशन का विरोध करते हुए कहा कि हम जहां काम करते हैं वो ऐसा भी नहीं कि उसे गटर कहा जाए।

वहीँ, जया बच्चन के समर्थन में पहले सांसद हेमा मालिनी आईं और अब शिवसेना के मुखपत्र सामना ने भी जया बच्चन को अपना समर्थन दिया है। मुखपत्र सामना में जया बच्चन की तारीफ की गई है और उन्हें बहादुर बताया गया है। सामना में लिखा गया है, सिनेजगत गंगा की तरह पवित्र निर्मल है, ऐसे कोई दावा नहीं करेगा। लेकिन जैसा कि कुछ टीनपाट कलाकार दावा करते हैं कि सिनेजगत ‘गटर’ है, ऐसा भी नहीं कहा जा सकता।

जया बच्चन ने बिना नाम लिए दिया रवि किशन को जवाब- जिस थाली में खाते हैं उसी में छेद...

जया बच्चन ने पीड़ा को व्यक्त किया
सामना में लिखा गया है कि श्रीमती जया बच्चन ने संसद में अपनी पीड़ा को व्यक्त किया है। ‘जिन लोगों ने सिनेमा जगत से नाम-पैसा सब कुछ कमाया। वे अब इसे गटर की उपमा दे रहे हैं। मैं इससे सहमत नहीं हूं।’ श्रीमती जया बच्चन के ये विचार जितने महत्वपूर्ण हैं, उतने ही बेबाक भी हैं। ये लोग जिस थाली में खाते हैं, उसी में छेद करते हैं। ऐसे लोगों पर जया बच्चन ने हमला किया है। श्रीमती बच्चन सच बोलने और अपनी बेबाकी के लिए प्रसिद्ध हैं। उन्होंने अपने राजनीतिक और सामाजिक विचारों को कभी छुपाकर नहीं रखा।

प्रवासी मजदूरों की मौत पर मोदी सरकार पर भड़के राहुल, बोले- तुमने ना गिना तो क्या मौत ना हुई?

जया ने की बेबाकी से बात 
सामना में लिखा है कि जया बच्चन ने महिलाओं के अत्याचार को लेकर संसद में बेहद भावुक हो कर आवाज़ उठाई है। ऐसे समय में जब सिनेजगत की धुलाई की जा रही है, तांडव करने वाले अच्छे-खासे पांडव भी जुबान बंद किए बैठे हुए हैं। मानो वे किसी अज्ञात आतंकवाद के साए में जी रहे हैं और कोई उन्हें उनके व्यवहार और बोलने के लिए परदे के पीछे से नियंत्रित कर रहा है। ऐसे में जया बच्चन का बयान बिजली के कड़कड़ाने जैसा है।

संसद में जया बच्चन के भाषण की बॉलीवुड हस्तियों ने की तारीफ, निशाने पर रवि किशन

नशे में धुत्त होकर यह राष्ट्रीय कार्य 
 सामना में लिखा है, खुद गंदगी खाते हुए दूसरों के मुंह को गंदा बताने का काम चल रहा है। इस विकृति पर ही जया बच्चन ने हमला बोला है। हमारे सिनेमा के कलाकार सामाजिक दायित्व को भी पूरा करते रहते हैं। युद्ध के दौरान सुनील दत्त और उनके सहयोगी सीमा पर जाकर सैनिकों का मनोरंजन करते थे। मनोज कुमार ने हमेशा ‘राष्ट्रीय’ भावना से ही फिल्में बनाईं । कई कलाकार संकट के समय अपनी जेब से मदद करते रहते हैं। राज कपूर की हर फिल्म में सामाजिक दृष्टिकोण और समाजवाद की चिंगारी दिखती थी। आमिर खान की फिल्में भी उसी तरह की हैं। ये सारे लोग नशे में धुत्त होकर यह राष्ट्रीय कार्य कर रहे हैं। ऐसे गरारे करना देश का ही अपमान है।

प्रवासी मजदूरों को मुआवजे देने की बात पर सरकार बोली- नहीं है कोई आंकड़ा कितने मरे !

जया ने क्या कहा...
जया बच्चन ने कहा, "कल हमारे एक सांसद सदस्य ने लोकसभा में बॉलीवुड के खिलाफ कहा। यह शर्मनाक है। मैं किसी का नाम नहीं ले रही हूं। वो खुद भी इंडस्ट्री से आते हैं। जिस थाली में खाते हैं, उसी में छेद करते हैं। गलत बात है। मुझे कहना पड़ रहा है कि इंडस्ट्री को सरकार की सुरक्षा और समर्थन की जरूरत है।"

रवि किशन ने क्या कहा था..
सोमवार को शुरू हुए सत्र में रवि किशन ने कहा कि "भारतीय फिल्म इंडस्ट्री में ड्रग की लत काफी ज्यादा है।  कई लोगों को पकड़ लिया गया है।  एनसीबी बहुत अच्छा काम कर रही है।  मैं केंद्र सरकार से अपील करता हूं वह इस पर सख्त कार्रवाई करें, दोषियों को जल्द से जल्द पकड़े और उन्हें सजा दे जिससे की पड़ोसी देशों की साजिश का अंत हो सके।"

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.