shiv sena uddhav thackeray question disqualification maharashtra farmers insurance scheme

ठाकरे ने पूछा- कैसे लाखों किसान फसल बीमा के लिए हो सकते हैं अयोग्य

  • Updated on 8/23/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने महाराष्ट्र के 90 लाख किसानों को प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के लिए अयोग्य घोषित करने पर शुक्रवार को सवाल उठाया। उन्होंने सरकार से यह सुनिश्चित करने को कहा कि कंपनियां राज्य के सूखे और बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों के किसानों को बीमा मुआवजा दें अन्यथा सरकार प्रीमियम के रूप में कंपनियों को भुगतान किए गए पैसे वापस लेकर उसे किसानों के बीच वितरित करे। 

मूडीज ने 2019 के लिए भारत की वृद्धि दर का अनुमान घटाया

ठाकरे ने यहां पत्रकारों से बात करते हुए कहा कि प्रधानमंत्री बीमा योजना के तहत किसान प्रीमियम राशि का दो प्रतिशत भुगतान करते हैं, जबकि 98 प्रतिशत राशि का भुगतान सरकार द्वारा किया जाता है। उन्होंने दावा किया कि शिवसेना द्वारा किसानों के बीच बीमा मुआवजे के अनुचित वितरण पर ङ्क्षचता जताए जाने के बाद, कंपनियों ने 10 लाख किसानों के बीच 960 करोड़ रूपए वितरित किए। 

सुस्त पड़े वाहन क्षेत्र की मदद को सामने आई मोदी सरकार, कई कदम उठाए

ठाकरे ने कहा कि 90 लाख किसानों को अयोग्य घोषित किए जाने के बाद लगभग 2000 करोड़ रुपये बीमा कंपनियों के पास हैं जबकि उनका किसानों के बीच वितरण किया जाना था। ठाकरे ने सवाल किया, ‘‘सवाल यह है कि किसने फैसला किया कि किसान पात्र नहीं हैं? उनके क्या मापदंड थे?’’

महाराष्ट्र विधानसभा का आगामी चुनाव लड़ेगी आम आदमी पार्टी

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.