Monday, Jan 21, 2019

अखिलेश- मायावती ने यूपी को जमकर लूटा, बीजेपी ने CBI जांच कराने में की देर: शिवपाल यादव

  • Updated on 1/9/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। प्रगतिशील समाजवादी पार्टी-लोहिया के प्रमुख शिवपाल सिंह यादव ने बुधवार को सपा और बसपा की पूर्ववर्ती सरकारों पर खनन के नाम पर लूट का आरोप लगाते हुए इस मामले में सीबीआई की कार्रवाई को देर से उठाया गया कदम करार दिया। शिवपाल ने कहा कि वर्ष 2007 से 2012 तक बसपा के शासनकाल में और 2012 से 2017 तक सपा के राज में खनन के नाम पर जमकर लूट-खसोट हुई। इसकी वजह से जनता को महंगाई का सामना करना पड़ा। इस पर कार्रवाई करने में भाजपा ने बहुत देर कर दी है। 

प्रसपा प्रमुख ने कहा 2007 से 2012 तक खनन के नाम पर जो लूट हुई, उसकी जांच में भी देर हुई। 2012 से 2017 तक अखिलेश सरकार में जो लूट हुई उसकी जांच में भी देर हो चुकी है। उन्होंने यह भी कहा, अब तो चुनाव की वजह से यह सब कुछ है। अगर जांच ही करानी थी तो पहले करानी चाहिये थी। वर्ष 2004 से 2007 तक प्रदेश के खनन मंत्री रहे शिवपाल ने कहा कि उन पर अवैध खनन का कोई आरोप नहीं लगा है।

आरक्षण पर केजरीवाल के ट्वीट पर भड़के कपिल मिश्रा, बोले- विरोध किया तो दुकानदारी खत्म

शिवपाल ने गरीब सवर्णों को 10 प्रतिशत आरक्षण देने के केन्द्र सरकार के फैसले के बारे में कहा कि वह इसका समर्थन पहले से ही करते रहे हैं। यह अच्छी बात है कि इस पर कदम उठाया गया ‘‘लेकिन भाजपा ने तो बहुत से वादे किये थे और एक भी वादा पूरा नहीं किया। यह वादा भी कहीं अधूरा ना रह जाए। मुझे भाजपा पर भरोसा नहीं है।’ उन्होंने कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री पी वी नरसिंह राव ने भी सवर्णों को आर्थिक आधार पर आरक्षण देने के लिये कदम उठाया था लेकिन उच्चतम न्यायालय ने उस पर रोक लगा दी थी। 

नेशनल हेराल्ड केस: बढ़ी सोनिया-राहुल की मुश्किलें, IT ने भेजा 100 करोड़ का टैक्स नोटिस

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को विचार करना चाहिये कि जब उच्चतम न्यायालय ने रोक लगा दी है तो यह आरक्षण कैसे दिया जाएगा। यह भाजपा का लॉलीपॉप है। यह पूरा होगा कि नहीं इस पर शक है। अपनी पार्टी के कांग्रेस के साथ गठबंधन की अटकलों के बारे में प्रसपा प्रमुख ने कहा कि वह धर्मनिरपेक्ष पार्टियों के गठबंधन में शामिल होना चाहते हैं। अगर पार्टी को स मानजनक सीटें मिलेंगी तो हमारे दरवाजे खुले हैं।

दवाओं की ऑनलाइन बिक्री पर रोक हटाने से उच्च न्यायालय का इनकार

इस सवाल पर कि अगर सपा प्रमुख अखिलेश खुद मिलना चाहेंगे तो क्या रुख अपनाया जाएगा, शिवपाल ने कहा ‘‘जो मुझे अपमान झेलना पड़ा, वह बर्दाश्त नहीं किया जा सकता लेकिन भाजपा को हराने के लिये अगर धर्म निरपेक्ष पाॢटयां हमसे गठबंधन करना चाहेंगी तो हम निश्चित रूप से करेंगे।’इस मौके पर पांच बार के विधायक और प्रदेश के कैबिनेट मंत्री रह चुके शिव कुमार बेरिया अपने समर्थकों समेत प्रसपा में शामिल हो गये। शिवपाल ने कहा कि बेरिया के आने से पार्टी को मजबूती मिलेगी।  

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.