Wednesday, Jan 20, 2021

Live Updates: Unlock 8- Day 19

Last Updated: Tue Jan 19 2021 10:42 PM

corona virus

Total Cases

10,596,107

Recovered

10,244,677

Deaths

152,743

  • INDIA10,596,107
  • MAHARASTRA1,994,977
  • ANDHRA PRADESH1,648,665
  • KARNATAKA931,997
  • KERALA911,382
  • TAMIL NADU831,866
  • NEW DELHI632,821
  • UTTAR PRADESH597,238
  • WEST BENGAL565,661
  • ODISHA333,444
  • ARUNACHAL PRADESH325,396
  • RAJASTHAN314,920
  • JHARKHAND310,675
  • CHHATTISGARH293,501
  • TELANGANA290,008
  • HARYANA266,309
  • BIHAR258,739
  • GUJARAT252,559
  • MADHYA PRADESH247,436
  • ASSAM216,831
  • CHANDIGARH183,588
  • PUNJAB170,605
  • JAMMU & KASHMIR122,651
  • UTTARAKHAND94,803
  • HIMACHAL PRADESH56,943
  • GOA49,362
  • PUDUCHERRY38,646
  • TRIPURA33,035
  • MANIPUR27,155
  • MEGHALAYA12,866
  • NAGALAND11,709
  • LADAKH9,155
  • SIKKIM5,338
  • ANDAMAN AND NICOBAR ISLANDS4,983
  • MIZORAM4,322
  • DADRA AND NAGAR HAVELI3,374
  • DAMAN AND DIU1,381
Central Helpline Number for CoronaVirus:+91-11-23978046 | Helpline Email Id: ncov2019 @gov.in, ncov219 @gmail.com
shivsena on stopping farmers from coming to delhi terrorist treatment of farmers pragnt

किसानों को दिल्ली आने से रोकने पर बोलीं शिवसेना- कृषकों के साथ आतंकी जैसा बर्ताव

  • Updated on 11/29/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। केंद्र सरकार के नए कृषि कानूनों (Farm Laws) के विरोध में पंजाब और हरियाणा के किसान सड़कों पर उतर आए हैं। तीन दिनों से चल रहे किसानों के दिल्ली कूच को लेकर राजनीतिक उठापटक भी जारी है। इस बीच शिवसेना (Shiv Sena) ने किसानों का समर्थन करते हुए मोदी सरकार (Modi Government) पर बड़ा हमला बोला है। शिवसेना सांसद संजय राउत (Sanjay Raut) ने किसानों के साथ पुलिस बर्बरता की निंदा करते हुए कहा कि जिस तरह से किसानों को दिल्ली में आने से रोका गया है ऐसा लगता है कि वे देश के किसान नहीं बल्कि बाहर के किसान हैं। उनके साथ आतंकवादी जैसा बर्ताव किया गया है।

दिल्ली बॉर्डर पर किसानों का आंदोलन जारी, मायावती बोलीं- कृषि कानूनों पर करे पुनर्विचार केंद्र

ऐसा बर्ताव देश के किसानों का अपमान करने जैसा- राउत
शिवसेना नेता ने आगे कहा कि चूंकि वे (किसान) सिख हैं और पंजाब और हरियाणा से विरोध प्रदर्शन करने दिल्ली आए हैं, इसलिए उन्हें खालिस्तानी कहा जा रहा है। इस तरह का बर्ताव करना देश के किसानों का अपमान करना है। बता दें कि दिल्ली की सीमाओं पर हजारों की संख्या में किसान जमे रहे, शनिवार दिन में उनकी संख्या बढ़ती गई क्योंकि काफी संख्या में किसान यहां और पहुंच गए और सैकड़ों किसान महानगर के बुराड़ी मैदान में इकट्ठे हुए और नए कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन किया।

ईडी निदेशक मिश्रा के कार्यकाल में संशोधन के खिलाफ प्रशांत भूषण ने दायर की याचिका

BJP ने किसान आंदोलन को बताया खालिस्तानी एजेंडा
गौरतलब है कि भाजपा (BJP) ने आरोप लगाया था कि पंजाब के किसान आंदोलन की आड़ में खालिस्तानी एजेंडे को बढ़ाया जा रहा है। इसके लिए कांग्रेस को जिम्मेदार बताया। भाजपा आईटी सेल ने एक वीडियो जारी किया है, जो काफी चर्चा में है। इस वीडियो में एक किसान कहता दिख रहा है कि इंदिरा ठोक दी, मोदी की छाती पर...। यह वीडियो सोशल मीडिया पर खूब वायरल हुआ।

डीडीसी चुनाव में हाई वोटिंग दबी हुई लोकतांत्रिक आकांक्षाओं को जाहिर करती है : जितेंद्र सिंह

ट्वीट किया वीडियो
भाजपा नेता अमित मालवीय ने एक ट्वीट में कथित वीडियो साझा करते हुए लिखा कि यह किस तरह का किसान आंदोलन है? क्या कैप्टन अमरिंदर सिंह आग से खेल रहे हैं? कांग्रेस कब समझेगी कि उग्र तत्वों के साथ गठबंधन वाली सियासत के दिन लद गए। वीडियो में एक किसान कहता दिख रहा है कि 3 दिसंबर को बैठक है। देखते हैं कुछ हल होता है। अगर उसमें कोई हल नहीं निकला तो ये वेरीकेड्स क्या है, हम तो इनको ऐसे ही उड़ा देंगे।

भाजपा ने किसान आंदोलन को बताया खालिस्तानी एजेंडा, ट्वीट कर कही ये बात

भाजपा ने किया रिट्वीट
दिल्ली भाजपा के प्रवक्ता तेजिंदर सिंह बग्गा ने भी संबंधित वीडियो को रिट्वीट करते हुए कहा था कि किसान आंदोलन राजनीति से प्रेरित है, जिसके पीछे कांग्रेस है। जिन्होंने खालीस्तान जिंदाबाद के नारे लगाए, वे कभी भी किसान नहीं हो सकते। किसान राष्ट्रभक्त होता है और वह कभी भी देश के खिलाफ नहीं जा सकता। जो लोग खालिस्तान जिंदाबाद के नारे लगा रहे हैं, वे कांग्रेस के एजेंट हैं।

दिल्ली भाजपा से ही जुड़े इम्प्रीत सिंह बख्शी ने सोशल मीडिया यूजर्स से आग्रह किया है कि जो लोग पंजाब के किसानों को खालिस्तानी होने की तोहमत लगा रहे हैं, वह ठीक नहीं है। वे सभी भी हमारे भाई-बहन हैं और बड़े हैं। वे संभवतः कांग्रेस, अकाली और आम आदमी पार्टी के नेताओं द्वारा भ्रमित किए गए हैं।

दिल्लीः किसान बाॅर्डर पर डटे, बिगड़े आजादपुर मंडी के हालात

किसान आंदोलनरत हैं
बता दें कि पंजाब-हरियाणा के किसान तीन केंद्रीय कृषि कानूनों के खिलाफ लगातार आंदोलनरत हैं। वे बीते तीन दिनों से दिल्ली आने का प्रयास कर रहे हैं। हरियाणा सीमा पर पंजाब के किसानों को रोक दिया गया। उन पर पानी की बौछारें की गईं और आंसू गैस के गोले दागे गए। इससे सियासत भी गरमा गई है और कांग्रेस ने किसानों के साथ कदम से कदम मिलाकर खड़े होने का ऐलान करते हुए आंदोलन को समर्थन दे दिया है।

comments

.
.
.
.
.