Monday, May 16, 2022
-->
shivsena sanjay raut attack west bengal and maharashtra governor pragnt

संजय राउत का तंज, कहा- बंगाल और महाराष्ट्र में ही हैं राज्यपाल...

  • Updated on 10/16/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। पश्चिम बंगाल (West Bengal) के राज्यपाल और मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) के बीच का विवाद किसी से छिपा नहीं है लेकिन अब यही हाल महाराष्ट्र में भी देखने को मिल रहा है। यहां राज्यपाल और उद्धव सरकार के बीच तनातनी बढ़ती जा रही है। दोनों राज्यों की सरकारों और राज्यपाल के बीच की ठनी को लेकर शिवसेना सांसद संजय राउत (Sanjay Raut) ने तंज कसा है।

उन्होंने कहा कि आजकल पूरे देश में दो ही जगह (पश्चिम बंगाल और महाराष्ट्र) राज्यपाल हैं। बाकी जगह राज्यपाल है या नहीं मुझे पता नहीं। क्योंकि वहां की जो सरकारें हैं, वो विरोधियों की सरकारें हैं।

संजय राउत ने साधा भगत सिंह कोश्यारी पर निशाना, कहा- राज्यपाल लांघ रहे मर्यादा

बता दें कि महाराष्ट्र (Maharashtra) में कोरोना वायरस (Coronavirus) संक्रमण के चलते लंबे समय से बंद धार्मिक स्थलों को दोबारा खोलने को लेकर राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी (Bhagat Singh Koshyari) द्वारा मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) को पत्र लिखने के बाद राजनीति शुरू हो गई है। इस मामले में शिवसेना नेता लगातार राज्यपाल पर निशाना साध रहे हैं। 

शिवसेना ने PM मोदी और अमित शाह से कहा- राज्यपाल को बुलाएं वापस, प्रतिष्ठा कर रहे धूमिल

राज्यपाल लांघ रहे मर्यादा
इससे पहले संजय राउत ने कहा था कि प्रधानमंत्री, राष्ट्रपति और हमारा संविधान भी सेक्युलर है, हिंदुत्व जरूर हमारे मन में..हमारे कार्यों में है लेकिन देश तो सेक्युलर से चलता है। राज्यपाल अगर सीएम के सेक्युलर होने पर सवाल उठाते हैं तो राष्ट्रपति को यही सवाल राज्यपाल और पीएम से पूछना चाहिए।' 'शिवसेना सेक्युलर है' के सवाल पर उन्होंने कहा, 'अगर मंदिर की बात है तो एक राष्ट्रीय पॉलिसी बनानी चाहिए। प्रधानमंत्री को खुलकर सामने आना चाहिए कि आज रात से सभी मंदिर खुलेंगे। हम फिर मंदिर खोल देंगे।

धर्मनिरपेक्षता का ‘‘मजाक’’ उड़ाने पर माकपा ने की राज्यपाल कोश्यारी को हटाने की मांग

राज्यपाल के पत्र पर संजय राउत का पलटवार
वहीं संजय राउत ने मंगलवार को कहा था कि राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी को सिर्फ यह देखना चाहिए कि महाराष्ट्र में संविधान के अनुसार शासन चल रहा है या नहीं और बाकी चीजों की देखभाल के लिए लोगों द्वारा एक निर्वाचित सरकार है। राज्य में उपासना स्थलों को खोलने को लेकर कोश्यारी द्वारा मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को पत्र लिखने और उस पर ठाकरे के जवाब के आलोक में राउत ने यहां संवाददाताओं से कहा कि शिवेसना का हिंदुत्व दृढ है और मजबूत बुनियाद पर टिका है और उसे इस पर किसी से पाठ की जरूरत नहीं है। 

भाजपा का महाराष्ट्र सरकार के विरुद्ध महासंग्राम, मंदिर न खोलने पर जबरन प्रवेश की धमकी

सीएम और राज्यपाल के बीच बनी तनातनी
दरअसल, सीएम ठाकरे और राज्यपाल कोश्यारी के बीच मंगलवार को उस वक्त तना तनी हुई जब कोश्यारी ने कोरोना वायरस संक्रमण के कारण बंद किए गए धार्मिक स्थलों को पुन: खोलने की मांग की और शिव सेना प्रमुख से पूछा कि क्या वह अचानक धर्मनिरपेक्ष हो गए हैं। कोश्यारी के पत्र के जवाब में ठाकरे ने कहा कि वह उनके अनुरोध पर गौर करेंगे और उन्हें 'अपने हिंदुत्व' के लिए राज्यपाल का प्रमाणपत्र नहीं चाहिए।  

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.