Monday, Feb 06, 2023
-->
shock to anshu prakash by court petition filed against acquittal of kejriwal dismissed

केजरीवाल को आरोप मुक्त किए जाने के खिलाफ दाखिल याचिका खारिज, अंशु प्रकाश को झटका

  • Updated on 6/8/2022

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। दिल्ली की एक अदालत ने पूर्व मुख्य सचिव अंशु प्रकाश पर हमले के मामले में मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया को आरोप मुक्त किये जाने के खिलाफ दाखिल याचिका बुधवार को खारिज कर दी। प्रकाश ने वर्ष 2018 में खुद पर हुए कथित हमले के मामले में यह याचिका दाखिल की थी। 

AAP ने नई रणनीति के तहत विधानसभा चुनाव से पहले गुजरात इकाई को किया भंग

  •  

     विशेष न्यायाधीश गीतांजलि गोयल ने मजिस्ट्रेट अदालत के निष्कर्षों को बरकरार रखा, जिनके आधार पर इस मामले में केजरीवाल, सिसोदिया और आम आदमी पार्टी (आप) के अन्य विधायकों को आरोप मुक्त किया गया था।
  

सुप्रीम कोर्ट ने नीट-पीजी 21 में करीब 1450 सीटें खाली रहने पर MCC को लगाई फटकार 

  प्रकाश ने निचली अदालत के आदेश को चुनौती देते हुए कहा था कि अदालत ने मामले में राजनेताओं को बरी करने के अपने फैसले में गलती की।  यह आपराधिक मामला 19 फरवरी, 2018 को केजरीवाल के आधिकारिक आवास पर हुई बैठक के दौरान प्रकाश पर हुए कथित हमले से संबंधित है। 

 

सलमान को धमकी भरा पत्र: लॉरेंस बिश्नोई से पूछताछ के लिए दिल्ली पहुंची मुंबई पुलिस

निचली अदालत ने इस मामले में केजरीवाल, सिसोदिया, और आप के अन्य विधायकों, राजेश ऋषि, नितिन त्यागी, प्रवीण कुमार, अजय दत्त, संजीव झा, ऋतुराज गोविंद, आदेश गुप्ता, मदन लाल और दिनेश मोहनिया को आरोप मुक्त कर दिया था। हालांकि अदालत ने इस मामले में आप विधायकों अमानतुल्ला खान और प्रकाश जरवाल के खिलाफ आरोप तय करने का आदेश दिया था।

केजरीवाल ने कश्मीरी पंडितों से कहा- सम्पूर्ण देश आपके साथ कंधे से कंधा मिलाकर खड़ा है

     केजरीवाल, सिसोदिया और आप के नौ अन्य विधायकों को अक्टूबर 2018 में जमानत दे दी गई थी। अमानतुल्ला खान और प्रकाश जरवाल को भी उच्च न्यायालय से जमानत मिल चुकी है। इस मामले के चलते दिल्ली सरकार और इसके नौकरशाहों के बीच कड़वाहट पैदा हो गई थी।

 

comments

.
.
.
.
.