Tuesday, Aug 03, 2021
-->
shock to bjp in gujarat! how much will be the loss due to mansukh vasavas resignation albsnt

गुजरात में बीजेपी को झटका! मनसुख वसावा के इस्तीफे से कितना होगा नुकसान?

  • Updated on 12/29/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। गुजरात में बीजेपी को तब तगड़ा झटका जब वरिष्ठ नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री मनसुख वसावा ने पार्टी से नाता तोड़ने की घोषणा की है। उन्होंने कहा कि वे संसद के बजट सत्र के बाद लोकसभा के सदस्य के तौर पर भी इस्तीफा दे देंगे। 

सफरनामाः मोदी-शाह के लिये क्यों मुश्किल भरा रहा 2020 साल ? लगा सुधार पर ब्रेक

बता दें कि मनसुख बसावा बीजेपी के जनजातीय मामलों पर मुखर नेता के तौर पर जाने जाते है। हालांकि पार्टी छोड़ते हुए वसावा ने बीजेपी छोड़ने का कोई ठोस कारन नहीं दिया है। माना जा रहा है कि 2016 में केंद्रीय मंत्रिपद से हटाये जाने के बाद वह भाजपा की नीतियों के आलोचक रहे हैं। भरूच से छह बार सांसद रहे वसावा ने गुजरात भाजपा अध्यक्ष आर सी पाटिल को लिखे पत्र में कहा कि वे पार्टी से इस्तीफा दे रहा हैं। ताकि उनकी गलतियों के कारण पार्टी की छवि खराब नहीं हो। उन्होंने अपने पत्र में इस बात का भी जिक्र किया कि वे हमेशा पार्टी का वफादार कार्यकर्ता रहा हैं।लेकिन अब पार्टी छोड़ने के फैसले के कारण उन्हें माफ किया जाए।     

कांग्रेस बोली- किसानों की मांगों को कानून के जरिए पूरा करे मोदी सरकार

वसावा ने पाटिल को लिखे पत्र में कहा कि वे संसद के बजट सत्र के दौरान लोकसभा अध्यक्ष से मुलाकात के बाद भरूच से सांसद के तौर पर इस्तीफा दे देंगे। वसावा ने कहा कि उन्होंने पार्टी का वफादार बने रहने और पार्टी के मूल्यों को अपने जीवन में आत्मसात करने की पूरी कोशिश की लेकिन वह इंसान है और गलतियां उससे हो सकती हैं। उन्होंने कहा कि वे भी  एक मनुष्य है और मनुष्य गलतियां कर देता है। पार्टी को मेरी गलतियों के कारण नुकसान नहीं हो, यह सुनिश्चित करने के लिए वे पार्टी से इस्तीफा दे रहे है।     

चुनावी मैदान में कूदी ममता ने BJP पर कंसा तंज- '30 सीटें जीत कर दिखाएं', PM को लिया निशाने पर

पत्र में वसावा ने भाजपा और उसके केंद्रीय नेतृत्व को उन्हें ‘कई चीजें’ देने के लिए धन्यवाद दिया और पाटिल से पार्टी नेतृत्व को उनके निर्णय से अवगत कराने का आह्वान किया।  पाटिल ने कहा कि वसावा एक संवेदनशील व्यक्ति हैं जो अपने लोगों के लिए संघर्ष करता है। उन्होंने विश्वास प्रकट किया कि वह पार्टी छोडऩे की अपनी योजना बदल लेंगे। पाटिल ने कहा कि उन्हें भेजे गए पत्र में  बजट सत्र में सांसद के तौर पर इस्तीफा देने का जिक्र है। वह कुछ मुद्दों को लेकर नाखुश हैं और वे आज सुबह सीएम विजय रूपाणी के साथ उन मुद्दों पर चर्चा की।

ये भी पढ़ें...

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.