Wednesday, Dec 08, 2021
-->
shortage of  ICU beds in some private hospitals Delhi Satyendar Jain KMBSNT

दिल्ली में बढ़े बाहरी मरीजों के कारण प्रवाइवेट अस्पतालों में ICU बेड्स की समस्या- सत्येंद्र जैन

  • Updated on 9/23/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। दिल्ली में कोरोना संक्रमण (Corona Infection) के लिए की गई व्यवस्थाओं के बारे में बताते हुए दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन (Satyendar Jain) ने कहा है यहां के कुछ प्रवाइवेट असप्तालों में बाहरी मरीजों की संख्या बढ़ने के कारण आईसीयू बेड्स की संख्या में कमी आई है। 

जैन ने कहा है कि दिल्ली के अस्पतालों में 15,804 बेड्स में से 7,051 बेड्स भरे हुए हैं। विशेष रूप से कुछ निजी अस्पतालों में आईसीयू बेड्स बाहरी मरीजों के कारण भरे हुए हैं। क्योंकि लोग इलाज के लिए दिल्ली के विशिष्ट अस्पतालों को प्राथमिकता देते हैं। ऐसे में हमें समस्या का सामना करना पड़ रहा है।  

दिल्ली में 24 घंटे में कोरोना के 3800 से ज्यादा केस, 37 की मौत

निजी अस्पतालों के 80 प्रतिशत ICU बेड्स आरक्षण पर HC की रोक
बता दें कि  दिल्ली हाईकोर्ट (Delhi High Court) ने केजरीवाल सरकार (Kejriwal Govt) के उस फैसले पर रोक लगा दी है जिसमें निजी अस्पतालों को 80 प्रतिशत आईसीयू बेड्स (ICU Beds) कोरोना मरीजों (Corona Patients) के लिए आरक्षित करने को कहा गया था। बढ़ते कोरोना मरीजों की को देखते हुए हाल ही में केजरीवाल सरकार ने आदेश दिया था कि दिल्ली के 33 निजी अस्पतालों में 80 प्रतिशत आईसीयू बेड्स कोरोना मरीजों के लिए आरक्षित करने होंगे। इस फैसले पर हाईकोर्ट ने मामले की अगली सुनवाई तक रोक लगा दी है।

निजी अस्पतालों के 80% ICU बेड्स रिजर्व करने वाले केजरीवाल सरकार के फैसले पर HC की रोक

राजस्थान से ऑक्सीजन स्पालई में हुई थी दिक्कत
वहीं दूसरी तरफ ऑक्सीजन सप्लाई को लेकर जैन ने कहा है कि दिल्ली में फिलहाल ऑक्सीजन की कोई कमी नहीं है। उन्होंने कहा कि कुछ सप्लायर्स को राजस्थान में पहले सप्लाई करने को कहा गया था, जिससे कुछ समस्या जरूर हुई थी। लेकिन फिलहाल दिल्ली के पास 6-7 दिन के लिए ऑक्सीजन पर्याप्त मात्रा में है। जैन ने कहा कि ऑक्सीजन सप्लाई के मामले को बातचीत से सुलझा लिया जाएगा। बता दें कि दिल्ली में ऑक्सीजन की स्पालई उत्तर प्रदेश और राजस्थान से होती है। 

यहां पढ़ें कोरोना से जुड़ी महत्वपूर्ण खबरें-

comments

.
.
.
.
.