Saturday, Jul 20, 2019

18,500 फीट की ऊंचाई पर श्रीखंड महादेव करते हैं वास, कड़ी परीक्षा के बाद होते हैं दर्शन

  • Updated on 7/7/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल ।  कहा जाता है कि भगवान शिव(Lord Shiva) को प्रसन्न करने के लिए पंच कैलाश की यात्रा का काफी पहत्व होता है। इन पंच कैलाश में भगवान शिव के पांच तीर्थ किन्नर कैलाश, मणिमहेश, कैलाश पर्वत, आदि कैलाश और श्रीखंड महादेव शामिल हैं। इनमें से सबसे मुश्किल यात्रा मानी जाती है श्रीखंड महादेव की।

17 जुलाई से शुरू होने जा रहा शिव जी का प्रिय माह सावन, जानें क्या है इसका महत्व

यहां पहुंचने के लिए यात्रियों को कड़ी मेहनत करना पड़ता है। श्रीखंड महादेव के दर्शन के लिये यात्रियों को 5 घंटे ग्लेशियर पर चलना पड़ता है। 18,500 फीट ऊंचाई पर स्थित श्रीखंड महादेव के दर्शन के लिए 35 किलोमीटर का सफर करना पड़ता है। तब कहीं जाकर श्रद्धालुओं को श्रीखंड महादेव के दर्शन मिलते हैं।

भारतीय संस्कृति को नई पहचान देने वाले विवेकानंद के ये हैं कुछ अनमोल विचार

तो अगर आप भी इस बार श्रीखंड महादेव की यात्रा पर जाना चाहते हैं तो बता दें 10 जुलाई से आप श्रीखंड महादेव की यात्रा के लिए रजिस्ट्रेशन करा सकते हैं। यहां जाने के लिए आप 10 से 14 जुलाई के बीच रजिस्ट्रेशन करा सकते हैं और इसके बाद 15 जुलाई से यात्रा शुरू हो जाएंगी।

आखिर क्यों निकाली जाती है #JagannathRathYatra, जानें इससे जुड़ा रहस्य

श्रीखंड महादेव जाने के लिए आप शिमला जिला के रामपुर से बस के जरिए कुल्लू जिला के निरमंड से होते हुए बागीपुल पहुंचेंगे, जहां से आगे करीब 30 किलोमीटर की पैदल यात्रा के बाद श्रीखंड महादेव पहुंचेंगे।

यहां देखें लिस्ट और जानें जुलाई महीने में किस दिन पड़ेगा कौन सा व्रत-त्योहार

बता दें श्रीखंड महादेव की यात्रा बेहद जोखिम भरी होती है, जिसके कारण श्रीखंड ट्रस्ट यह सुनिश्चित करना चाहता है कि बीमार और शारीरिक रूप से कमजोर लोग इस यात्रा में शामिल होकर अपनी जान जोखिम में न डालें, जिसके चलते श्रद्धालुओं को यात्रा से पहले शारीरिक जांच और इसके बाद इसके प्रमाणपत्र जमा करने के निर्देश दिए गए हैं।

सोमवार के दिन शिव की भक्ति में लीन होकर करें ये पांच काम, मिलेंगे ये लाभ

बीते कुछ सालों में तीन दर्जन से भी ज्यादा लोगों के जान गंवाने और 18500 फीट ऊंची पहाड़ी में होने वाली ऑक्सीजन की कमी को देखते हुए ट्रस्ट ने यह फैसला लिया है।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.