Monday, Sep 20, 2021
-->
sidhu became the president of punjab congress musrnt

सिद्धू बने पंजाब कांग्रेस के अध्यक्ष, CM अमरिंदर ने कहा- मिलकर करेंगे काम

  • Updated on 7/23/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। आखिरकार मुख्यमंत्री कैप्टन अमरेंद्र सिंह और पूर्व मंत्री व कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू के बीच युद्ध विराम हो गया। तमाम विवादों और राजनीतिक उठापटक के बीच नवजोत सिंह सिद्धू ने आज पंजाब कांग्रेस के अध्यक्ष पद की जिम्मेदारी संभाल ली। इस दौरान मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह भी उनके साथ मौजूद दिखे और तमाम कार्यकर्ताओं के बीच दोनों ने मंच साझा किया।

कैप्टन अमरिंदर सिंह ने यहां कार्यक्रम में कहा कि जब सोनिया गांधी ने उन्हें बताया कि वे नवजोत सिंह सिद्धू को प्रदेश अध्यक्ष बनाना चाहते हैं, तब मैंने कहा कि दोनों मिलकर काम करेंगे।

इसके पहले वीरवार को ही सुलह के संकेत देते हुए मुख्यमंत्री ने सिद्धू की ताजपोशी का न्यौता कबूल कर लिया। उससे पहले चंडीगढ़ के पंजाब भवन में नवजोत सिंह सिद्धू ने मुख्यमंत्री के साथ बैठकर चाय पी। थोड़ी देर बाद यहीं मुख्यमंत्री कैप्टन अमरेंद्र और पंजाब प्रभारी हरीश रावत की उपस्थिति में पंजाब के प्रदेश अध्यक्ष सिद्धू सहित कार्यकारी अध्यक्षों कुलजीत नागरा, संगत सिंह गिलजियां, सुखविंद्र सिंह डैनी और पवन गोयल की ताजपोशी होगी।

सिद्धू की तरफ से भेजे गए न्यौते पर 55 विधायकों ने हस्ताक्षर कर मुख्यमंत्री से नई टीम को आशीर्वाद देने का अनुरोध किया था। सिद्धू ने अलग से भी पत्र लिख आग्रह किया कि उनका कोई व्यक्तिगत एजेंडा नहीं है, केवल एक जनहितैषी एजेंडा है। इसलिए पंजाब कांग्रेस परिवार में सबसे बड़ा होने के नाते मेरा अनुरोध है कि आप कृपया आएं और नई टीम को आशीर्वाद दें। यह न्यौता पंजाब प्रदेश कांग्रेस कमेटी के कार्यकारी अध्यक्ष कुलजीत नागरा और संगत सिंह गिलजियां लेकर पहुंचे थे।

इसके बाद मुख्यमंत्री पिघल गए और न केवल न्यौता कबूल किया बल्कि खुद की तरफ से पंजाब के तमाम विधायकों, सांसदों और वरिष्ठ नेताओं को शुक्रवार सुबह 10 बजे पंजाब भवन में चाय पर आमंत्रित किया। वहां से सभी नेता इकट्ठे होकर पंजाब कांग्रेस भवन जाएंगे। कार्यकारी अध्यक्ष नागरा और गिलजियां ने पुष्टि करते हुए कहा कि मुख्यमंत्री ने पंजाब अध्यक्ष सहित मंत्रियों और विधायकों के हस्ताक्षरित न्यौते को कबूल किया और कहा कि वे आशीर्वाद देने के लिए पंजाब कांग्रेस भवन में पहुंचेंगे।  

11 मंत्रियों सहित 29 विधायकों ने नहीं किए हस्ताक्षर

 सिद्धू के पत्र पर जिन मंत्रियों और विधायकों ने हस्ताक्षर नहीं किए, उनमें मंत्री ब्रह्म मोहिंद्रा, मनप्रीत सिंह बादल, साधु सिंह धर्मसोत, ओम प्रकाश सोनी, गुरप्रीत कांगड़, विजय इंद्र सिंगला, अरुणा चौधरी, सुंदर श्याम अरोड़ा, राणा गुरमीत सोढी, भारत भूषण आशु, बलबीर सिंह सिद्धू सहित विधायक हरप्रताप सिंह अजनाला, फतेहजंग सिंह बाजवा, बलदेव खैहरा, हरदेव लाडी, हरदयाल कंबोज, रमनजीत सिक्की, डाक्टर राजकुमार चब्बेवाल, पवन आदिया, सुशील रिंकू, संजीव तलवार, राकेश पांडेय, सुखपाल खैहरा, राणा गुरजीत सिंह, बलविंद्र सिंह धालीवाल और नवतेज चीमा का नाम शामिल है। इनके अलावा विधानसभा स्पीकर राणा के.पी. सिंह और डिप्टी स्पीकर अजायब सिंह भट्टी ने भी साइन नहीं किए हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.