Wednesday, Jan 26, 2022
-->
Sidhu did not change his attitude Discord of Punjab Congress came to the fore again albsnt

सिद्धू के नहीं बदले तेवर! पंजाब कांग्रेस की कलह फिर से आई सामने, पार्टी भी असमंजस में

  • Updated on 10/24/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। पंजाब कांग्रेस में कैप्टन एपिसोड भले ही खत्म हो गया हो लेकिन कांग्रेस में कलह बरकरार है। पार्टी के पंजाब इकाई के अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू अपने ही चन्नी सरकार को घेरने का कोई भई मौका हाथ से नहीं जाने देता है। अगर पंजाब कांग्रेस में ऐसा ही चलता रहा तो विपक्ष की भूमिका भी पार्टी के नेता ही निभाने के लिये तैयार है। दरअसल नवजोत सिंह सिद्धू ने फिर से दोहराया है कि पंजाब के हित में उनके दिये गए 13 सूत्री सुझाव पर सरकार काम करें। 

हार की कगार पर भाजपा, गोवा में मुख्यमंत्री बदलने की तैयारी में, जनता बनाएगी आप सरकार: सिसोदिया   

बता दें कि अभी हाल ही में सिद्धू जब पंजाब कांग्रेस अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दिया तो लग रहा था कि शायद ही वे अपना इस्तीफा वापस लेंगे। लेकिन उत्तरप्रदेश के लखीमपुर खीरी तक मार्च करके सिद्धू ने संकेत दिया कि वे वापसी करने को तैयार है। फिर वे दिल्ली पहुंचकर तत्कालीन पंजाब कांग्रेस प्रभारी हरिश रावत समेत राहुल गांधी से मुलाकात की। जिसके बाद वे अपना इस्तीफा औपचारिक तौर पर वापस ले लिया। ऐसे में लगने लगा कि अब पंजाब में चरणजीत सरकार और सिद्धू मिलजुलकर काम करेंगे। 

यूपी से बिहार तक Congress ने बदली रणनीति, बीजेपी से पहले सहयोगी को निपटाने की क्या है मजबूरी?

मालूम हो कि सिद्धू वापस पंजाब तो आए लेकिन उनकी नाराजगी फिर सामने आ गई। उन्होंने कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्षा सोनिया गांधी को पत्र लिखकर मांग की वे चन्नी सरकार को निर्देश दें कि 13 सूत्री कार्यक्रम को लागू करें। यहीं नहीं उन्होंने फिर से विधानसभा चुनाव में कांग्रेस की वापसी का रास्ता भी अपने इस कार्यक्रम को बताया। जिससे साफ हो गया कि सिद्धू अभी-भी पार्टी के उस फैसले से खुश नहीं हैं जिसमें कैप्टन को सीएम पद से हटाने के बाद उन्हें बायपास करके चरणजीत सिंह चन्नी को सीएम बनाया गया।

comments

.
.
.
.
.