सिसोदिया ने दिया शेल्टर होम की सोशल ऑडिट का निर्देश, इन मुद्दों पर होगा काम

  • Updated on 12/7/2018

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। दिल्ली महिला आयोग (डीसीडब्ल्यू) को उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने राजधानी के सभी शेल्टर होम का सोशल ऑडिट करने का निर्देश दिया है। डीसीडब्ल्यू ने इस काम के लिए टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ सोशल साइंस की एजेंसी कोशिश की सेवा ली है जोकि मुम्बई का फील्ड प्रोजेक्ट है।

बता दें कि कोशिश ने इससे पहले कई राज्यों में इस तरह के ऑडिट किए है और बिहार के मुजफ्फरपुर के शेल्टर होम में व्याप्त गड़बडिय़ों को उजागर करने में महत्वपूर्ण भूमिका भी अदा की थी। 

दिव्यांग पेंशन को विधि विभाग की हरी झंड़ी, 10 लाख से अधिक लोगों को मिलेगा लाभ

मनीष सिसोदिया की अध्यक्षता में वीरवार को टीआईएसएस की टीम व महिला एवं बाल विकास विभाग के अफसरों की मीटिंग हुई थी, जिसमें डीसीडब्ल्यू की अध्यक्षा स्वाति मालीवाल और महिला एवं बाल विकास विभाग की सचिव रश्मि कृष्णन मौजूद थी।

कोशिश के निदेशक मो. तारिक भी कई शेल्टर होम के इंचार्जों के साथ मीटिंग में मौजूद थे। मनीष सिसोदिया ने इस दौरान कहा कि दिल्ली सरकार सभी शेल्टर होम की हालत और कार्यप्रणाली ठीक करने के लिए प्रतिबद्ध है।

केजरीवाल की हुंकार का असर, NPS में अब सरकार देगी 14 प्रतिशत योगदान

इसलिए दिल्ली के शेल्टर होम की वास्तविक हालात की जांच के लिए बिना किसी भेदभाव के एक बाहरी एजेंसी की सेवाएं हमने ली हैं जोकि दिल्ली सरकार के सामने वास्तविक रिपोर्ट देगी। 

किन बिंदुओं पर होगा ऑडिट
कोशिश की टीम राजधानी के सभी शेल्टर होम में जा रही है और सभी महत्वपूर्ण बिंदुओं का ऑडिट कर रही है, जैसे कि शेल्टर होम का इंफ्रास्ट्रक्चर, सुविधाएं, स्टॉफ की संख्या, व्यवहार व ट्रेनिंग, होम में रहने वाले लोगों के पुनर्वास के लिए किए गए प्रयत्न इत्यादि।

राजस्थान में मतदान के लिए सुरक्षा कड़ी, भाजपा-कांग्रेस में कड़ी टक्कर

डीसीडब्ल्यू व कोशिश के बीच सहमति हुई है कि ऑडिट के दौरान शेल्टर होम में कोई भी गड़बड़ी मिलेगी तो इसकी सूचना डीसीडब्ल्यू को दी जाएगी। ऑडिट टीम पॉलिसी की सभी अच्छी और खराब चीजों के अभिलेख बनाएगी। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.