sitaram-yechury-on-the-election-commission-s-decision-law-can-worsen

चुनाव आयोग के फैसले पर बोले येचुरी, बिगड़ सकती है कानूनी व्यवस्था

  • Updated on 5/22/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। चुनाव आयोग (Election Commission) द्वारा सभी वोटों को वीवीपैट (vvpat) से मिलाने की मांग खारिज करने के बाद इसकी मांग करने वाले तमाम विपक्षी दलों में खासी नाराजगी देखने को मिल रही है।

विपक्ष को EC से झटका, EVM के सभी वोटों से VVPAT मिलान की मांग खारिज

मार्क्सवादी नेता सीताराम येचुरी (sitaram yechury) ने चुनाव आयोग के इस फैसले पर सवाल उठाते हुए कहा है कि इलेक्शन कमिशन का यह फैसला सुप्रीम कोर्ट के फैसले केे खिलाफ है। चुनाव आयोग के इस फैसले से कानून व्यवस्था बिगड़ सकती है।

उन्होंने कहा यदि चुनावी प्रक्रिया की अखंडता के लिए इस प्रक्रिया को इतना लंबा खींचा गया है, तो चुनाव आयोग पहले नमूने के परीक्षण के मूल सिद्धांत का पालन क्यों नहीं कर रहा है? उन्होंने लिखा कि वीवीपैट की पर्चियों का मिलान भी सुबह वोटों की गिनती के साथ शुरू होनी चाहिए। अगर ऐसा नहीं होता है, तो लॉ एंड ऑर्डर की स्थिति बिगड़ सकती है।

 

राहुल गांधी ने एग्जिट पोल को बताया फर्जी, कार्यकर्ताओं से कहा- बेकार नहीं जाएगी मेहनत

मालूम हो कि भाजपा की विरोधी पार्टियों ने ईवीएम में गड़बड़ी की आशंका के चलते सभी ईवीएम के वोटों का वीवीपैट से मिलान करने की मांग रखी थी, जिसे चुनाव आयोग ने यह कहते हुए खारिज कर दिया था कि ईवीएम पूरी तरह सुरक्षित है और उनसे किसी भी प्रकार की छेड़खानी नहीं की जा सकती।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.