सो जाओ मेरे बच्चे...

  • Updated on 12/1/2018

गत रात मैं फ्लाइट पकड़ कर वापस अपने घर पहुंच गया। न्यूयार्क में अपने मित्रों से मिलते हुए बहुतों ने मुझे बताया कि वे कैसे मेरा भारत आने के लिए इंतजार कर रहे थे। उन्होंने आह भरकर कहा कि यहां के लिए फ्लाइट्स बहुत अधिक लम्बी दूरी की होती हैं।

‘‘17 घंटे लम्बी, तुम कैसे इतनी लम्बी यात्रा कर लेते हो?’’ मैंने कहा कि कर लेता हूं। आमतौर पर मैं बिजनैस क्लास में यात्रा करता हूं जिसका अर्थ है कि लग्जरी सीटें तथा शानदार सेवा अन्यथा मुझे खाली सीटों की पूरी लम्बी कतार में अपनी टांगें पसार कर पढऩा अथवा सोना पड़ता है। 

इस बार हमेशा की तरह मैंने प्रार्थना की। हां, प्रार्थना की कि मुझे एक सुविधाजनक उड़ान मिले। ‘‘डैड, हम आपके लिए खिड़की वाली सीट प्राप्त नहीं कर सके!’’ आनलाइन चैक करने के बाद मेरी बेटी ने मुझसे कहा। जब मैं अपनी सीट पर पहुंचा तो देखा कि अगली वाली सीट पर चौड़े कंधों वाला एक तगड़ा आदमी बैठा था जो मेरी सीट तक फैला हुआ था। चूंकि मैं पहले ही मानसिक तौर पर उसके साथ लड़ाई हार चुका था इसलिए मुझे अपनी सीट के एक तिहाई हिस्से पर ही कैद होकर बैठना पडऩा था। 

जब मैं बैठा और अपने कंधों में दर्द महसूस किया तो दया भावना के साथ याचना की, ‘‘हे परमात्मा, क्या आपने मेरी प्रार्थनाएं नहीं सुनीं?’’
‘‘आप एक बच्चे की तरह सोए!’’ मेरे चौड़े कंधों वाले जार्डेनियन पड़ोसी इब्राहिम अलफकिएह ने कहा। 
‘‘क्या मैं ऐसे सोया?’’ मैंने पूछा।
‘‘हमने अभी लैंड किया है।’’ उसने एक मुस्कुराहट के साथ कहा।
मैं पूरी उड़ान के दौरान सोया रहा और हां, जैसा कि इब्राहिम ने कहा था, एक ‘बच्चे की तरह’।और तब मुझे एहसास हुआ कि प्रार्थनाओं के जवाब में परमात्मा का उत्तर आपके द्वारा सोचे गए समाधान से अलग हो सकता है। मैंने एक अच्छी सीट के लिए कहा था, उसने मुझे अच्छी नींद दी। 

कुछ वर्ष पूर्व, जब मैंने पूरी तरह से लेेखन का कार्य अपना लिया, हमारे परिवार को एक चिकित्सीय समस्या के कारण अचानक धन की जरूरत पड़ी। मैं जानता था कि मुझे जल्दी से धन का इंतजाम करना है और मैंने 3 तरीकों बारे सोचा। पहला, एक ‘मित्र’ अपना घर बेचना चाहता था। मैंने पूछा उसे कितनी कीमत मिलने की आशा है।

उसने मुझे बताया और मैंने पूछा कि क्या मैं अपनी चालाकी का इस्तेमाल करके घर बेचने में मदद कर सकता हूं और जो कुछ भी उसकी बताई कीमत से अधिक मिलेगा उसे मैं रख लूंगा। ‘‘तुम नहीं कर सकते बॉब!’’ उसने कहा, ‘‘मैंने पहले ही तुम्हें एक बहुत ऊंची कीमत बताई है लेकिन तुम प्रयास कर लो।’’

मैंने कोशिश की और एक अच्छा-खासा लाभ कमा लिया लेकिन मेरा मित्र अपने धन तथा जो कुछ मुझे मिलने वाला था, के साथ न्यूजीलैंड भाग गया। फिर मुझे एक डाक्टर का क्लीनिक डिजाइन करने के लिए बुलाया गया क्योंकि यह एक ऐसा क्षेत्र था जिसमें मैं रहा हूं। डाक्टर ने मुझे अपना क्लीनिक दिखाया। मैंने डिजाइन पर काफी मेहनत की और अचानक मुझे डाक्टर का फोन आया कि वह एक रैडीमेड, पहले से ही डिजाइन्ड क्लीनिक खरीद रहा है। 

दो सौदे पहले ही औंधे मुंह गिर चुके थे और तीसरा, जो एक व्यावसायिक ही था, वह भी बेकार चला गया था। 
‘‘क्यों नहीं तुम मुझे जरूरत के अनुसार धन बनाने देते?’’ मैंने रोते हुए प्रार्थना की और फिर मुझे पता चला कि धन की जरूरत नहीं थी क्योंकि चिकित्सीय समस्या अब नहीं रही थी। 
‘‘सो जाओ मेरे बच्चे!’’ ऊपर से परमात्मा फुसफुसाया, ‘‘यदि तुम्हें खिड़की वाली सीट नहीं मिली तो चिंता मत करो, मैंने तुम्हारी सोने की मात्रा बढ़ा दी है...!’’                                                                                       ---राबर्ट क्लीमैंट्स

डिस्क्लेमर (अस्वीकरण) : इस आलेख (ब्लाग) में व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं। इसमें सभी सूचनाएं ज्यों की त्यों प्रस्तुत की गई हैं। इसमें दी गई कोई भी सूचना अथवा तथ्य अथवा व्यक्त किए गए विचार पंजाब केसरी समूह के नहीं हैं, तथा नवोदय टाइम्स (पंजाब केसरी समूह) उनके लिए किसी भी प्रकार से उत्तरदायी नहीं है।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.