Sunday, Oct 01, 2023
-->
smartphone is no longer required for digi yatra at igi airport

आईजीआई एयरपोर्ट पर  डिजी यात्रा के लिए अब स्मार्टफोन की जरूरत नहीं

  • Updated on 6/8/2023

फेस रिकग्निशन से होगी यात्री की पहचान,  बोर्डिंग पास दिखाने की नहीं होगी जरूरत
- दिल्ली एयरपोर्ट ऑपरेटर डायल की ओर से यात्रियों के लिए नई सुविधा की शुरुआत
नई दिल्ली, 8 जून (मुकेश ठाकुर /नवोदय टाइम्स):


अब दिल्ली के आईजीआई एयरपोर्ट पर डीजी यात्रा के सुविधा के साथ सफर के लिए पहुंचने वाले यात्रियों के पास स्मार्ट फोन का होना जरूरी नहीं है। अब यात्री बिना स्मार्ट फोन के भी   डिजी यात्रा  सुविधा का लाभ ले सकते हैं। इसके लिए दिल्ली एयरपोर्ट ऑपरेटर दिल्ली इंटरनेशनल एयरपोर्ट लिमिटेड (डायल) की ओर से एयरपोर्ट परफेशियल रिकग्निशन सिस्टम सफलतापूर्वक इंस्टॉल कर दिया है। इस तकनीक के कारण अब वे लोग जिनके पास स्मार्ट फोन नहीं होते थे वे भी डिजी यात्रा ऐप का उपयोग कर पाएंगे।

डायल सीईओ विदेह कुमार जयपुरियार के अनुसार डायल दिल्ली एयरपोर्ट पर यात्री अनुभव को बेहतर बनाने के लिए लगातार काम कर रही है। यह नवीनतम पहल उन लोगों को भी डिजी यात्रा का पूरा इस्तेमाल करने और निर्बाध रूप से यात्रा करने में मदद देगी जिन्हें तकनीकी जानकारी कम है। इस सुविधा के आरंभ होने से अब आईजीआई एयरपोर्ट पर यात्रा करने पहुंचने वाले यात्री अपने मोबाइल में डिजी यात्रा मोबाइल एप्लिकेशन को बिना डाउनलोड किए भी इसका लाभ उठा सकेंगे। इसके लिए यात्री को एक थ्री स्टेप वेरिफिकेशन प्रोसेस से गुजरना होगा। उसके बाद फेस रिकग्निशन से यात्री की पहचान की जाएगी। इस प्रक्रिया को पूरी करने के बाद यात्रियों को टर्मिनल, सिक्योरिटी चेक और बोर्डिंग गेट पर बोर्डिंग पास दिखाने की जरूरत नहीं होगी।

प्रथम चरण में नई सेवा आईजीआई के टर्मिनल-3 पर शुरू
डिजी यात्रा की शुरुआत एयरपोर्ट पर हवाई यात्रियों को लंबी कतारों से निजात दिलाकर एयरपोर्ट में आसान प्रवेश के लिए शुरू की गई थी। इस सेवा को 1 दिसंबर 2022 से देश के कुछ एयरपोर्ट पर शुरुआत की गई थी। फेशियल रिकग्निशन की मदद से यात्री की पहचान होने से यात्री की एयरपोर्ट पर एंट्री में कम समय लगता है। एयरपोर्ट पर बोर्डिंग पास की जरूरत नहीं होती है. यात्री का चेहरा ही उसका बोर्डिंग पास का काम करता है। यह व्यवस्था सेंट्रलाइज्ड मोबाइल वॉलेट पर आधारित आइडेंटिटी प्लेटफॉर्म की तरह काम करती है। यात्री को एयरपोर्ट पर इंट्री के समय, सिक्योरिटी जांच के समय बस अपना चेहरा दिखाना होता है।

अब ऐप डाउनलोड करने की अनिवार्यता भी खत्म
पहले डिजी यात्रा का उपयोग करने के लिए स्मार्ट फोन में इस ऐप को डाउनलोड करना अनिवार्य होता था। इसमें कई लोग जोकि स्मार्ट फोन उपयोग नहीं करते थे, उन्हें सामान्य तरीके से ही कतार में लग प्रवेश करना होता था। इस नई तकनीक से मोबाइल ऐप डाउनलोड करने की अनिवार्यता भी खत्म हो गई है।

डायल की ओर से शुरू की गई इस नई सेवा का लाभ उठाने के लिए यात्री को रजिस्ट्रेशन कराना होगा। पंजीकरण में एक मिनट का समय लगेगा।के टर्मिनल-3 पर रजिस्ट्रेशन डेस्क बनाया गया है। यहां पर यात्री को अपना बोर्डिंग पास और फेस स्कैन करना होगा और कोई एक पहचान-पत्र देना होगा। रजिस्ट्रेशन हो जाने के बाद यात्री बिना किसी रुकावट के और बिना बोर्डिंग पास दिखाए टर्मिनल के भीतर, सिक्योरिटी चेक एरिया और बोर्डिंग गेट पर जा सकते है।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.