Tuesday, May 17, 2022
-->
smriti-irani-bjp-hits-back-congress-nehru-gandhi-family-in-rae-bareli

स्मृति ईरानी ने रायबरेली में बोला गांधी-नेहरू परिवार पर तीखा हमला

  • Updated on 9/7/2018

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने शुक्रवार को नेहरू-गांधी परिवार के गढ़ अमेठी और रायबरेली के विकास के मुद्दे पर कांग्रेस को जमकर घेरा। ईरानी ने कहा कि जिन लोगों के संसदीय क्षेत्र में आज भी 80 फीसदी मकान कच्चे हों, उनसे देश विकास की उम्मीद नहीं कर सकता।

नवजोत सिद्धू बोले- पाक ने दी करतारपुर साहिब गुरुद्वारा तक जाने की इजाजत

स्मृति ने आधुनिक रेल कोच कारखाने का निरीक्षण करने के बाद सलोन में मीडिया से कहा कि रायबरेली जिले का सलोन विधानसभा क्षेत्र अपने आप में इस बात का गवाह है कि सालों से गांधी परिवार यहां का प्रतिनिधित्व कर रहा था, लेकिन आज भी यहां पर जो चुनौतियां हैं, उनका हल देने के लिए वह परिवार वक्त पर मौजूद नहीं रहता। 

आतंकवाद से सख्ती से निबटेंगे जम्मू-कश्मीर के नए डीजीपी दिलबाग सिंह

उन्होंने कहा कि रायबरेली और अमेठी इस सचाई से वाकिफ है। जो अपने संसदीय क्षेत्र में विकास नहीं कर पाए, जिनके संसदीय चुनाव क्षेत्र में आज भी 70 से 80 फीसदी घर मिट्टी के बने हैं, उनसे विकास की अपेक्षा जब यहां के लोग नहीं करते तो देश तो दूर की बात है।

मोहल्ला क्लीनिक प्रोजेक्ट: बान की मून की तारीफ से केजरीवाल के हौसले बुलंद

स्मृति ईरानी ने कहा कि आज उन्होंने रेल कोच कारखाने का दौरा किया। पूर्ववर्ती कांग्रेस सरकार के शासन में कपूरथला से कोच लाए जाते थे, लेकिन इसे रायबरेली कोच फैक्ट्री की उपलब्धि बताया जाता था और अब नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में यहां 700 से ज्यादा कोच का निर्माण होता है। 

दिल्ली मेट्रो किराए को लेकर केजरीवाल के वार पर हरदीप पुरी ने किया पलटवार

बता दें कि स्मृति ईरानी ने पिछला लोकसभा चुनाव में अमेठी से राहुल के खिलाफ लड़ा था, लेकिन उन्हें मुंह की खानी पड़ी थी। लेकिन, इस बार ईरानी ने कमर कस ली है। इस वजह से वह लगातार अमेठी के साथ रायबरेली में भी कांग्रेस के खिलाफ मुहिम चलाए हुए हैं। 

कांग्रेस ने किया पलटवार, बोली- तेलंगाना में 'केसीआर युग' का हुआ अंत

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.