Monday, Oct 22, 2018

सुषमा स्वराज के बाद स्मृति ईरानी ने अकबर मामले से झाड़ा पल्ला

  • Updated on 10/11/2018

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। केंद्र की मोदी सरकार में मंत्री एमजे अकबर पर लगे यौन शोषण के आरोपों के लेकर सियासत तेज हो गई है। एक ओर जहां विपक्ष मोदी सरकार को आड़े हाथ ले रहा है और अकबर के इस्तीफे की मांग कर रहा है, वहीं सरकार की महिला मंत्रियों ने भी इस मामले में या तो चुप्पी साध ली है, या पल्ला झड़ना शुरू कर दिया है। 

गंगा के लिए अनशन कर रहे प्रोफेसर अग्रवाल का निधन, AAP सांसद भड़के

आलोक नाथ ने यौन उत्पीड़न के आरोपों पर अपने वकील के जरिए दी सफाई

विदेश मंत्री सुषमा स्वराज पहले ही इस मामले में बोलने से बचती रही हैं, वहीं दूसरी केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने इस मामले में चुप्पी तो तोड़ी है, लेकिन पल्ला झाड़ने की कोशिश भी की है। स्मृति ने साफ कहा, 'इस मामले में जैंटलमैन ही बोलने के लिए सही रहेंगे। मैं मीडिया का तारीफ करती हूं कि वह उनके महिला साथियों की राय ले रहा है। जो भी अपनी आवाज उठा रहे हैं, उन्हें लज्जित, पीड़ित और हंसी का पात्र होने का जरुरत नहीं है।'

राफेल सौदे पर SC के आगे मोदी सरकार पस्त, सीतारमण फ्रांस दौरे पर रवाना

केंद्र ने सुप्रीम कोर्ट में दीं दिल्ली में सेवाओं के नियंत्रण पर अपनी दलीलें

ईरानी ने आगे कहा, 'महिलाएं प्रताड़ित होने के लिए काम पर नहीं जाती हैं। वे अपने सपनों को साकार करने और सम्मानीय जिंदगी जीने के लिए काम करती हैं। मुझे उम्मीद है कि जो भी महिलाएं आवाज उठा रही हैं, उन्हें समुचित न्याय मिलेगा।' 

आम्रपाली ग्रुप पर फिर गिरी सुप्रीम कोर्ट की गाज, अब 9 संपत्तियां होंगी सील

बता दें कि दिल्ली से भाजपा के सांसद उदित राज एमजे अकबर का खुले रूप में समर्थन कर रहे हैं। उन्होंने सवाल उठाए हैं कि इतने सालों पर शिकायत करने का कोई अर्थ नहीं है। साथ ही किसी शिकायत के आधार पर किसी का इस्तीफा मांगना भी जायज नहीं है। बता दें कि मीटू अभियान के तहत बॉलीवुड, मीडिया और राजनीति में महिलाएं बड़े खुलासे कर रही हैं। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.