Monday, Mar 01, 2021
-->
social media Adani stopped advertising Healthy Oil DJSGNT

सोशल मीडिया पर किरकिरी के बाद अडानी ने 'सेहतमंद तेल' के विज्ञापन को रोका, गांगुली कर रहे थे प्रचार

  • Updated on 1/5/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। अडानी कंपनी 'अडानी विलमर' ने अपने फॉर्य्चून राइस ब्रान कुकिंग ऑयल के सभी विज्ञापनों को रोक दिया है जिसमें सौरव गांगुली प्रचार करते हुए दिखाई देते हैं। सौरव गांगुली को शनिवार को दिल का दौरा पड़ा था जिसके बाद से सोशल मीडिया पर कंपनी के विज्ञापन का मजाक उड़ाया जा रहा था। कंपनी की ओर से कहा जा रहा है कि ब्रैंड की क्रिएटिव एजेंसी मामले को देख रही हौ और नए आइडिया पर काम कर रही है।

कीर्ति आजाद ने किया ये विवादित ट्वीट
ट्रॉलर्स के साथ-साथ पूर्व क्रिकेटर कीर्ति आजाद ने भी गांगुली का मजाक उड़ाया था। उन्होंने अपने ट्वीट में लिखा- दादा जल्द स्वस्थ हो जाइए। हमेशा ऐसा प्रोडक्ट्स को प्रमोट करें जिनका पहले इस्तेमाल किया जा चुका हो और उनका पर भरोसा किया जा सके। स्वयं सचेत और सावधान रहें। भगवान आपका भला करे। कीर्ति के इस ट्वीट के बाद दादा के फैंस ने उन्हें खूब खरी खोटी सुनाई, कहा ऐसे समय में इस तरह के ट्वीट करने से बचना चाहिए।

माकपा का विवादित बयान, कहा- सौरव गांगुली पर था राजनीति में आने का दबाव

गांगुली को लेकर राजनीतिक बयानबाजी तेज
भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान सौरव गांगुली को दिल का दौरा पडने को लेकर राजनीतिक बयानबाजी आरंभ हो गई है। इससे पहले माकपा के वरिष्ठ नेता अशोक भट्टाचार्य का कहना है कि सौरव गांगुली पर राजनीति में आने का दबाव था। भाजपा को भट्टाचार्य का बयान पसंद नहीं आया है। शनिवार को ‘हल्का’ दिल का दौरा पडने के बाद 48 वर्षीय गांगुली को कोलकाता के एक निजी अस्पताल में भर्ती करवाया गया था जहां उनकी एंजियोप्लास्टी की गई।

BCCI अध्यक्ष सौरव गांगुली की हालत स्थिर, मेडिकल बुलेटिन में 'दादा' की तबीयत को लेकर कही ये बात

अशोक भट्टाचार्य ने कही ये बड़ी बात
गांगुली के लंबे समय से पारिवारिक मित्र रहे अशोक भट्टाचार्य ने कहा-‘कुछ लोग गांगुली का राजनीतिक रूप से इस्तेमाल करना चाहते हैं। संभवत: इससे वह दबाव में थे। वह राजनीतिक मिजाज के नहीं हैं। उन्हें एक बेहतरीन खिलाड़ी के तौर पर जाना जाए। हमें उन पर राजनीति में आने के लिए दबाव नहीं डालना चाहिए। मैंने पिछले सप्ताह उन्हें कहा था कि उन्हें राजनीति में नहीं आना चाहिए और उन्होंने मेरे  विचारों को खारिज नहीं किया था।’ भट्टाचार्य अस्पताल में गांगुली का हालचाल जानने पहुंचे थे।  माकपा नेता के इस बयान पर भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष दिलीप घोष ने कहा-‘कुछ लोग अपनी तुच्छ मानसिकता के कारण हर चीज में राजनीति देखते हैं।’

क्या सौरव गांगुली BJP में होंगे शामिल? राज्यपाल धनखड़ से मुलाकात के बाद 'दादा' ने कही ये बात

कल मिल सकती है छुट्टी
वरिष्ठ चिकित्सकों के 9 सदस्यीय बोर्ड ने सोमवार को गांगुली की सेहत पर चर्चा की। जाने-माने हृदयरोग विशेषज्ञ डॉ. देवी शैट्टी और डॉ. आर.के. पांडा अमरीका के एक अन्य विशेषज्ञ ऑनलाइन तरीके से बैठक में शामिल हुए। सौरव के हृदय तक जाने वाली उनकी 3 प्रमुख धमनियों में अवरोध पाया गया है जिसे ‘ट्रिपल वैसल डिसीज’ भी कहते हैं। मैडीकल बोर्ड में यह आम सहमति बनी कि चूंकि गांगुली की सेहत स्थिर है, सीने में दर्द नहीं है, ऐसे में उनकी दूसरी एंजियोप्लास्टी फिलहाल टालना सुरक्षित विकल्प होगा। लेकिन आने वाले कुछ दिनों या हफ्तों में एंजियोप्लास्टी करनी ही होगी। उन्हें संभवत: परसों तक अस्पताल से छुट्टी दी जाएगी।

यहां पढ़ें अन्य बड़ी खबरें...

comments

.
.
.
.
.