Monday, Dec 06, 2021
-->
social-media-post-controversy-delhi-assembly-committee-summons-kangana-ranaut-rkdsnt

सोशल मीडिया पोस्ट विवाद : दिल्ली विधानसभा कमेटी ने कंगना रनौत को किया तलब 

  • Updated on 11/25/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। दिल्ली विधानसभा की शांति एवं सद्भाव समिति ने सोशल मीडिया पर अभिनेत्री कंगना रनौत के कथित तौर पर घृणा फैलाने वाले पोस्ट को लेकर उन्हें छह दिसंबर को तलब किया है। समिति के अध्यक्ष राघव चड्ढा ने बृहस्पतिवार को यह जानकारी दी। समिति की ओर से जारी एक बयान में बताया गया है कि कंगना द्वारा ‘इंस्टाग्राम’ पर की गई टिप्पणियों को कथित तौर पर आपत्तिजनक तथा अपमानजनक बताने वाली शिकायतों के आधार पर अभिनेत्री को तलब करते हुए नोटिस जारी किया गया है। शिकायतों में दावा किया गया है कि कंगना ने अपने कथित पोस्ट में सिख समुदाय को ‘‘खालिस्तानी आतंकवादी’’ बताया था। 

केजरीवाल सरकार ने गठित किया यमुना सफाई प्रकोष्ठ, 2025 तक का लक्ष्य

बयान में कहा गया, ‘‘ शिकायत के मुताबिक ऐसे पोस्ट की सामग्री ने सिख समुदाय की भावनाओं को आहत किया है और उनके मन में उनकी सुरक्षा, जीवन और स्वतंत्रता को लेकर आशंका पैदा की।’’ शिकायतकर्ता के मुताबिक कंगना के इंस्टाग्राम अकाउंट से जारी पोस्ट की व्यापक पहुंच है और दुनियाभर में करीब 80 लाख लोग ‘फॉलो’ कर रहे हैं। बयान में शिकायत के हवाले से बताया गया कि पोस्ट के साथ जारी तस्वीरों से सिख समुदाय की भावना आहत हुई है और इनमें समाज का सौहाद्र्र और शांति भंग करने की ‘ प्रवृत्ति’ थी। 

पीएम मोदी से मिलीं ममता बनर्जी, सुब्रमण्यम स्वामी से मुलाकात भी चर्चा में

शिकायत में कहा गया कि कंगना ने 20 नवंबर को पोस्ट किया, ‘‘खालिस्तानी आज सरकार पर दबाव बना रहे होंगे ...लेकिन भूलें नहीं कि एक महिला...एकमात्र महिला प्रधानमंत्री ने इनको अपनी जूती के नीचे मसल दिया था।’’ बयान में कहा गया, ‘‘दिल्ली में इन मामलों की गंभीरता और महत्व को देखते हुए विधायक राघव चड्ढा की अध्यक्षता वाली शांति और सछ्वाव समिति ने कंगना रनौत को समिति के समक्ष पेश होने के लिए समन जारी किया है ताकि इस मौजूदा मामले पर विस्तृत और सुसंगत तरीके से विचार-विमर्श किया जा सके।’’ 

गोवा में भाजपा अध्यक्ष नड्डा के निशाने पर कांग्रेस की बजाए TMC और AAP

बयान के मुताबिक कंगना को छह दिसंबर को दोपहर 12 बजे समिति के समक्ष पेश होने को कहा गया है। गौरतलब है कि दिल्ली विधानसभा द्वारा वर्ष 2020 में गठित शांति और सदभाव समिति मौजूदा समय में दिल्ली दंगों से जुड़ी शिकायतों पर सुनवाई कर रही है और पिछले सप्ताह उसने भारत में फेसबुक के प्रतिनिधि का बयान दर्ज किया था।

अगर यूपी और अन्य राज्यों में चुनाव नहीं होते तो केंद्र कृषि कानून वापस नहीं लेता : पवार 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.