Friday, Dec 03, 2021
-->
sonal mansingh gave notice breach of privilege against delhi arvind kejriwal aap farmers rkdsnt

केजरीवाल के खिलाफ सोनल मानसिंह ने दिया विशेषाधिकार हनन का नोटिस

  • Updated on 12/24/2020


नई दिल्ली/टीम डिजिटल। राज्यसभा की सदस्य सोनल मानसिंह ने आरोप लगाया है कि दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने दिल्ली विधानसभा में विवादास्पद कृषि कानूनों पर अपने भाषण के दौरान ऊपरी सदन की ‘‘घोर अवमानना’’ की। मानसिंह ने उनके खिलाफ विशेषाधिकार हनन का नोटिस दिया है। राज्यसभा के सभापति एम. वेंकैया नायडू के पास दायर नोटिस में नामांकित सदस्य ने केजरीवाल के दावे पर आपत्ति जताई है कि सदन के पीठासीन अधिकारी ने तीनों कृषि सुधार विधेयकों को पारित कर दिया जबकि विपक्षी सदस्य मत विभाजन की मांग करते रहे। मानसिंह भाजपा से जुड़ी हुई हैं।

पीएम मोदी के महत्वाकांक्षी प्रोजेक्ट बुलेट ट्रेन को शिवसेना शासित TMC ने दिया झटका    

हिंदी में दिए गए उनके भाषण का जिक्र करते हुए मानसिंह ने अपने नोटिस में लिखा है कि केजरीवाल ने कहा कि पहली बार राज्यसभा में तीनों विधेयक बिना किसी मतदान के पारित हुए। उन्होंने कहा, ‘‘श्री अरविंद केजरीवाल के ये कथन न केवल विशेषाधिकार का गंभीर हनन हैं बल्कि सदन की घोर अवमानना है’’ और आरोप लगाया कि यह ‘‘यह सभापति, राज्यसभा और भारत के संसद के ऊपरी सदन की प्रतिष्ठा को निम्नतर करने का शरारतपूर्ण प्रयास है।’’ सभापति के पास बुधवार को नोटिस दायर किया गया। 

बीसीसीआई की AGM ने 2022 आईपीएल में 10 टीमों को दी मंजूरी  

उन्होंने कहा है, ‘‘तथ्य यह है कि राज्यसभा ने एकजुटता दिखाते हुए इन विधेयकों को सर्वसम्मति से पारित किया और इस तथ्य को संज्ञान में रखा कि ये विधेयक देश में कृषक समुदाय के कल्याण के लिए हैं।’’ विधेयकों को 20 सितंबर को शोरगुल के बीच सदन में पारित किया गया था और विपक्ष के कई सदस्य अध्यक्ष के आसन के पास विरोध जता रहे थे। कुछ सदस्यों ने मतविभाजन की मांग की थी लेकिन राज्यसभा के उप सभापति हरिवंश ने इससे इंकार कर दिया था।

कृषि कानूनों को लेकर विपक्ष दलों ने एकजुटता से पीएम मोदी पर साधा निशाना

आम आदमी पार्टी के नेता के खिलाफ कार्रवाई की मांग करते हुए मानसिंह ने कहा, ‘‘श्री अरविंद केजरीवाल ने दिल्ली विधानसभा में निंदात्मक शब्दों का प्रयोग करने के बाद तीनों कृषि कानूनों की प्रतियां फाड़ दीं। श्री अरविंद केजरीवाल का कृत्य राज्यसभा की अवमानना है और इस विषय पर संबंधित नियमों के तहत दंडनीय है।’’ 

राघव चड्ढा के दफ्तर और कर्मचारियों पर हमला, AAP ने साधा भाजपा पर निशाना

आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि राज्यसभा के सभापति अब निर्णय करेंगे कि उनके नोटिस पर कार्रवाई की जाए अथवा नहीं। अगर वह कार्रवाई के बारे में सोचते हैं तो इसे सदन की विशेषाधिकार समिति के पास भेज देंगे, जो दिल्ली विधानसभा से केजरीवाल के खिलाफ उपयुक्त कार्रवाई करने के लिए कहेगा।      

कृषि कानूनों के खिलाफ 40 से ज्यादा किसान यूनियनों को पक्षकार बनाने की गुजारिश

 

 

 

 

यहां पढ़े कोरोना से जुड़ी बड़ी खबरें...

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.