Sunday, Jun 13, 2021
-->
sonu nigam once raise objections to loud speaker azaan now javed akhtar has agreed rkdsnt

सोनू निगम ने कभी अजान पर जताई थी आपत्ति, अब जावेद अख्तर ने शुरू की बहस

  • Updated on 5/9/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। बॉलीवुड के मशहू सिंगर सोनू निगम ने कभी लाउड स्पीकर अजान पर आपत्ति जताई थी। इसको लेकर उनको खूब ट्रोल किया गया था। लेकिन, अब बॉलीवुड गीतकार जावेद अख्तर भी सोनू निगम की आपत्ति पर सहमत नजर आ रहे हैं। इसके साथ ही उन्होंने अजान और लाउड स्पीकर के बारे में ऐतिहासिक संदर्भ में चर्चा भी की है। वहीं, लाउड स्पीकर पर अजान पर मुस्लिम समाज को गौर करने की इशारों में अपील की है। 

डॉक्टर सुसाइड केस में पुलिस सक्रिय, AAP MLA और सहयोगी से हिरासत में पूछताछ

अमित शाह के बारे में अफवाह उड़ाने के आरोप में गुजरात पुलिस ने 4 लोग किए गिरफ्तार

अपने ट्वीट में वह लिखते हैं, ''भारत में करीब 50 वर्षों से लाउड स्पीकर पर अजान हराम थी, फिर इसे हलाल बना दिया गया। और हालल होने पर भी यह जारी है, लेकिन कहीं तो अंत होना चाहिए। अजान सही है, लेकिन अन्यों के लिए यह खलल बनने का करण नहीं बननी चाहिए। मुझे आशा है कि कम से कम इस दफा वे खुद ही इस पर विचार करेंगे। '

अमित मालवीय बोले- ममता नहीं कर रही हैं प्रेस कांफ्रेंस, लोगों ने पूछा- PM का क्या?

सफूरा जरगर मामला देश में लोकतंत्र के ढहने का प्रतीक है : जस्टिस मार्कंडेय काटजू

दरअसल, भारत में अजान मस्जिदों की लाउड स्पीकर के जरिए होती है। इसको लेकर लोगों ने कई बार शिकायत भी की है। कुछ लोग इसे ध्वनि प्रदूषण भी करार देते हैं। ऐसे ही जागरण और मंदिरों में लाउड स्पीकर को लेकर भी प्रशासन सख्त हुआ है। जिससे लोगों को परेशानी ना हो। जागरण में धीमी और देर रात में लाउड स्पीकर के इस्तेमाल को लेकर कई राज्यों में नियम बने हैं। 

अखिलेश बोले- सरकार के दावों से सच्चाई कोसों दूर है, जैसे ये बेबस मज़दूर अपने घरों से...

ऐसे में अजान को लेकर भी मुस्लिम समाज में जागरूकता फैलाने के मकसद से जावेद अख्तर ने यह ट्वीट किया है। गीतकार अख्तर किसी भी तरह के कट्टरवाद और हठधर्मिता के खिलाफ रहे हैं। मुस्लिम समाज को जागरुक करने के लिए उनकी पत्नी अभिनेत्री शबाना आजमी भी सक्रिय रहती हैं, लेकिन, कई बार उन्हें भी मुस्लिम वर्ग की ओर से निशाना बनाया जा चुका है। 

महुआ मोइत्रा बोलीं- सुप्रीम कोर्ट घरों में शराब सप्लाई पर सुनवाई करेगी, लेकिन प्रवासी....

अखिलेश बोले- सरकार के दावों से सच्चाई कोसों दूर है, जैसे ये बेबस मज़दूर अपने घरों से...

इसके साथ ही जावेद अख्तर ने यूपी की योगी सरकार द्वारा श्रम कानूनों को तीन साल तक निलंबित करने के मुद्दे पर भी अपनी बात रखी है। वह लिखते हैं, 'कानूनों को निलंबित किया जा रहा है। अमीरों को फायदा पहुंचाने और गरीबों को नियंत्रित करने के लिए नियमों को ताक पर रखा जा रहा है। जबकि वे दावा करते हैं कि वे  देश को प्यार करते हैं, जाहिर है कि उनके दिलों में 75 फीसदी देशवासियों के प्रति कोई प्यार नहीं है।'

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.